Lautakar Aaunga Phir । Bseb Class 10 Hindi लौटकर आऊंगा फिर

Lautakar Aaunga Phir Question Answer, Lautakar Aaoonga Phir Notes In Hindi Bihar Board, लौट कर आऊंगा फिर’ कविता के प्रश्न उत्तर, bihar board class 10 hindi लौटकर आऊंगा फिर, Bihar Board Class 10 Hindi Solutions पद्य Chapter 11 लौटकर आऊंगा फिर, 11. लौट कर आऊंगा फिर – जीवनानंद दास, Lautkar aaunga phir class 10 subjective question, Loutkar Aaunga Phir– हिंदी कक्षा 10 लौटकर आऊँगा फिर

Bihar Board Class 10th Hindi पद्य Chapter 11 Lautakar Aaunga Phir  – लौटकर आऊंगा फिर Question Answer

पाठ – 11 : लौटकर आऊंगा फिर
लेखक – जीवनानंद दास
जन्म – 1899

1. कवि किस तरह के बंगाल में एक दिन लौटकर आने की बात करता है ?

उत्तर – कवि उस जगह एक दिन बंगाल में लौटकर आने की बात करते है ! जहाँ खेत खलियान कल कारखाने बहती नदिया यानी प्रकृतिक संपदा से सम्पूर्ण अपनी मात्र भूमि पर एक दिन लौट आने की बात करते है |

2. कवि अगले जीवन में क्या-क्या बनने की संभावना व्यक्त करता है और क्यों ?

उत्तर – कवि अगले जन्म में मनुष्य, कोयल, कौआ तथा हंस बनने की संभावना प्रकट करता है!  कवि की ऐसी इच्छा इसलिए है ! क्योंकि मनुष्य बनने पर धान की लहलहाती फसल के सौंदर्य का वर्णन कर बंगाल की प्रसन्ता करेगा ! कोयल बनकर और अपनी मधुर आवाज से वातावरण को मधुमेह बना देगा ! तथा कौआ बनकर कांव – कांव करके लोगो को अपनी कर्म पथ पर चलने के लिए प्रेरित करते ! और हंस बनकर लोगो को न्याय और अन्याय में भेद करना सिखाते |

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Facebook Group Join Now

Lautakar Aaunga Phir Notes in Hindi Bihar Board  

3. अगले जन्मों में बंगाल में आने की क्या सिर्फ कवि की इच्छा हैस्पष्ट कीजिए ?

उत्तर – कविता के आधार पर इस नश्वर जीवन में एक बार फिर आने की लालसा मातृभूमि के प्रति लेखक के प्रेम की एक भावना प्रकट होती है ! जिससे यह स्पष्ट होता है ! कि लेखक की इच्छा सिर्फ बंगाल में आने की है ! क्योंकि वहां उसकी मातृभूमि है |

4. कवि किनके बीच अंधेरे में होने की बात करता हैआशय स्पष्ट कीजिए ?

उत्तर – कवि जीवनानंद दास ने अंधेरे में सारस पक्षी के समान बादलों के बीच होने की बात करता है ! कवि के कहने का आशय है ! कि जिस प्रकार सारस अभी रूप होने के कारण अपनी संगिनी से अलग रहने पर रात के धने अंधेरे में ढूंढने के लिए व्याकुल रहता है ! उसी प्रकार कवि अपने कर्म की चिंता में व्याकुल रात के अंधेरे में हसीन कलापना में मग्न रहने की बात करता है |

5. कविता की चित्रात्मकता पर प्रकाश डालिए ?

उत्तर – प्रस्तुत कविता में लेखक ने धान की खेती बहती नदी कोयल हंस कौवा उल्लू सारस तथा किशोरी के पैरों में लाल घुंगरू के माध्यम से बंगाल की प्रकृति एवं संस्कृति संपदा की ओर ध्यान आकर्षित किया है ! लेखक ने इन्ही विशेषताओं को विभिन्न रूप उपमानो के माध्यम से चित्रित करके मातृभूमि के प्रति अपना अटूट प्रेम प्रकट किया है |

लौटकर आऊंगा फिर पाठ के प्रश्न उत्तर इन हिंदी 

6. कविता में आए बिंबों का सौंदर्य स्पष्ट कीजिए ?

उत्तर – कवि ने कृषि की प्रधानता के लिए धान के खेती तथा बहती हुई नदी का वर्णन किया है ! तो प्राकृतिक संपदा की संपन्नता और स्पष्ट करने के लिए कोयल का उदाहरण देते हैं ! इसी प्रकार कौवा के माध्यम से सुबह की किशोरी के माध्यम से संस्कृति की तथा उल्लू के माध्यम से अशिक्षित जनता की नाव चलाते लड़के के माध्यम से कवियों की तथा सारस के माध्यम से देश प्रेम की भावना प्रकट होती है |

7. कविता के शीर्षक की सार्थकता स्पष्ट कीजिए ?

उत्तर – कविता का मुख्य उद्देश्य मातृभूमि के प्रति कवि का उत्कृष्ट प्रेम प्रकट करना है ! कवि ने विभिन्न बिंबो उपमानओं के माध्यम से अपनी मातृभूमि तथा परिवेश के साथ अपना संबंध स्थापित करने का प्रयास किया है ! लौट कर आऊंगा फिर कहने से यह स्पष्ट होता है ! कि कवि अपनी मृत्यु के बाद फिर बंगाल में ही जन्म लेंगे ! और रुप मिले शरीर के अनुकूल देश के प्रति अपने प्रेम प्रकट करेंगे |

8. कवि अगले जन्म में अपने मनुष्य होने में क्यों संदेह करता हैक्या कारण हो सकता है ?

उत्तर – कवि अगले जन्म में अपने मनुष्य होने पर इसलिए संदेह करता है ! क्योंकि पुनर्जन्म भारतीय मान्यता के अनुसार 84 लाख योनी के बाद अंत में मनुष्य का शरीर मिलता है ! ताकि मनुष्य अपने इच्छा कर्मो से जन्म मरण के चक्कर से छुट्टी पा लेता है ! पूर्ण जीवन मरने के चक्कर में पड़ता है ! लेकिन पुनर्जन्म लेने की लालसा प्रकट करता है ! इसलिए उसे मनुष्य होने में समय लगता है |

Ncert 10th Class Hindi Lautakar Aaunga Phir Question Answer

9. व्याख्या करें |
क. बनकर शायद हँस मैं किसी किशोरी का ! धुंघरू लाल पैरों में तैरता ! रहूँगा बल दिन-दिन भर पानी में- गंध जहाँ होनी ही भरी, घास की|

उत्तर – प्रस्तुत पंक्ति हमारी पाठ्य पुस्तक हिंदी पाठ्य की काव्यखंड में लौट कर आऊंगा फिर शीर्षक से लिया गया है ! जिसके लेखक जीवनानंद दास जी है ! लेखक इस पंक्ति के माध्यम से यह बताना चाहते हैं ! कि भले ही हम को हंस बनना पड़ेगा ! किशोरी के घुंघरू के रूप में रहना पड़े तो भी मुझे मंजूर है ! मगर उससे नहीं होगा ! तो मैं हंस बनकर दिन भर पानी में तैरने के लिए तैयार हूं ! परंतु अगर मेरा पुनर्जन्म हो तो बंगाल की धरती पर ही हो |

ख. खेत हैं जहाँ धान के, बहती नदी के किनारे फिर आऊँगा लौटकर एक दिन-बंगाल में |

उत्तर  प्रस्तुत पंक्ति हमारे पाठ्य पुस्तक हिंदी पाठक के काव्यखंड में लौट कर आऊंगा फिर शीर्षक से लिया गया है ! जिसके लेखक जीवनानंद दास जी है ! लेखक इस पंक्ति के माध्यम से यह बताना चाहते हैं ! कि अगर मेरा पुनर्जन्म होता है ! तो वहां हो जहां धान के खेत हो तथा जहां पर नदिया बहती हो ! उसी के किनारे बंगाल में कवि पुनः लौटना चाहते हैं |

Class 10th Hindi Objective ( पद्य खण्ड )
पाठ – 1राम बिनु बिरथे जगि जनमा
पाठ – 2प्रेम अयनि श्री राधिका
पाठ – 3अति सूधो स्नेह का मारग है
पाठ – 4स्वदेशी
पाठ – 5भारतमाता
पाठ – 6जनतंत्र का जन्म
पाठ – 7हिरोशिमा
पाठ – 8एक वृक्ष की हत्या
पाठ – 9हमारी नींद
पाठ – 10अक्षर-ज्ञान
पाठ – 11लौटकर आऊँग फिर
पाठ – 12मेरे बिना तुम प्रभु

Leave a Comment

error: Content is protected !!