Nagari lipi notes । Bihar Board Class 10 Hindi नागरी लिपि

nagari lipi notes, Bihar Board Class 10 Hindi नागरी लिपि, Bseb Class 10th Hindi नागरी लिपि ,godhuli bhag 2 नागरी लिपि कक्षा -10, Class 10th Hindi 2022 पाठ -5 नागरी लिपि प्रश्न उत्तर, Class 10 Nagari Lipi subjective question answer, Nagari Lipi Objective 10th Class, Class 10 Hindi नागरी लिपि Text Book Questions and Answers, Nagri lipi Class 10 hindi, nagari lipi ka question answer, nagari lipi, nagri lipi objective question answer, nagri lipi question answer

Bseb Class 10th Hindi Chapter 5 nagari lipi – नागरी लिपि Subjective

पाठ – 5
शीर्षक – नागरी लिपि
लेखक – गुनाकर मुले
जन्म – 1935
मृत्यु – 2009

1. देवनागरी लिपि के अक्षरों में स्थिरता कैसे आई है ?

उत्तर – करीब 200 वर्ष पहले पहली बार देवनागरी लिपि के टाइप बने और उसमे पुस्तके छपने लगी | इसलिए इसके अक्षरों में स्थिरता आ गई 

2. देवनागरी लिपि में कौन – कौन सी भाषाएँ लिखी जाती है ?

उत्तर – देवनागरी लिपि में संस्कृत , हिंदी , नेपाली , मराठी , बंगाली आदि भाषाएँ लिखी जाती है |

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Facebook Group Join Now

3. लेखक नए किन भारतीय लिपियों से देवनागरी का संबंध बताया है ?

उत्तर – लेखक नए तमिल मलयालम तेलगु कनाडा और ब्राह्मी आदि ! भारतीय लिपियों से देवनागरी लिपि का संबंध बताया है |

Bihar Board Class 10 Hindi नागरी लिपि

4. देवनागरी  किसे कहते है ? किस प्रसंग में लेखक नए उसका उल्लेख किया है ?

उत्तर – विजय नगर के राजाओं के लेखो की लिपि को नंदी नागरी लिपि कहते है ! लेखक नए देव नागरी लिपि की उत्त्पति के प्रसंग में नंदी नागरी का उल्लेख किया है |

5. नागरी लिपि के आरंभिक लेखकहाँ से प्राप्त हुए उसका विवरण दे ?

उत्तर – नगरी लिपि के आरंभिक लेख दक्षिण भारत से ही प्राप्त हुए ! कोकण के शिलाहर मान्यखेत के राष्ट्रकूट देवगिरी के यादव तथा विजयनगर के शासको के लेख भी नागरी लिपि में ही प्राप्त होते है |

6. ब्राह्मी और सिन्धु लिपि की तुलना में नागरी लिपि के मुख्य परिचय क्या है ?

उत्तर – ब्राह्मी और सिन्धु लिपि की तुलना में नागरी लिपि के मुख्य पहचान यही है ! की इसकी अक्षरों के सिरों पर पूरी लकीरे बन जाती है ! और इस सिरों के रेखाएँ उतनी ही लम्बी होती है ! जितने की अक्षरों की चौड़ाई होती है |

Nagri Lipi Class 10th Hindi Bihar Board

7. भारत में किन शासको के प्राचीन नागरी लेख प्राप्त होते है ?

उत्तर – भारत में मेवाड़ के गुहिल तथा अजमेर के चौहान , कनौज के गढवाल , काठियावाड़ गुजरात के सोलंकी आबू के परमार बुंदेल खेर के चंदेल आदि शासको के लेख देवनागरी लिपि में प्राप्त होते है |

8. नागरी को देवनागरी क्यों कहते है ? लेखक इस संबंध में क्या बताता है ?

उत्तर – देवनागरी से संबंध में लेखक नए बताया है | की देवनागरी शब्द काशी से उत्पन्न हुई है ! इसलिए नागरी को देवनागरी कहा जाता है ! लेकिन दुसरे मत के अनुसार प्राचीन पाटलिपुत्र नगर के देव अर्थात चन्द्रगुप्त मौर्य द्वितीय का नगर कहाँ गया ! यह बात भी कुछ सत्य प्रतीत मालुम पड़ता है | कुछ लेखको का मत है की गुजरात को देवनागरी कहा जाता था | परन्तु कुल मिलाकर नागरी को देवनागरी का आपस में एकता नहीं है |

9. नगरी की उत्पति के संबंध में लेखक का क्या कहना है ? पटना से नागरी का क्या संबंध लेखक नए बताया है ?

उत्तर – नगरी की उत्पति के संबंध में लेखक के अनेक विचार सामने आए है | एक मत के अनुसार सबसे पहले गुजरात के नागौर ब्राह्मणों नए इस लिपि का प्रयोग किया | इसलिए इसे नागरी लिपि कहते है | एक अन्य मत के अनुसार देवनागरी लिपि काशी में पहली बार प्रयोग की गई | इसलिए इसे देवनागरी लिपि कहते है | प्राचीन ग्रंथो से पता चलता है | की प्राचीन नगर पाटलिपुत्र से इस शब्द का विशेष सम्मान है | प्राचीन नगर पाटलिपुत्र ही पटना है | इस नगर की लिपि होने के कारण इसे नागरी लिपि के नाम से जाना जाता है |

nagari lipi ka question answer

10. नागरी लिपि कब एक सार्वदेशिक लिपि थी ?

उत्तर – नागरी लिपि ईशा के 8 वीं सदी से 18 वीं सदी तक पुरे देश में फ़ैल गई | इसलिए कहा जा सकता है | की उस समय यह एक सार्वदेशिक लिपि थी |

11. नागरी लिपि के साथ – साथ किसका जन्म होता है ? इस संबंध में लेखक क्या जानकारी देता है ?

उत्तर – नागरी लिपि के साथ – साथ अनेक प्रादेशिक भाषाओं का भी जन्म होता है | 8 वीं और 9 वीं सदी से आरंभिक हिंदी का साहित्य मिलने लगता है | हिंदी के आदि कवि शरद पाद के दोहा कोष 8 वीं सदी में ही मिली थी | जिससे पता चलता है की 8 वीं ग्यारहवीं में लिखी गई है | उस समय नागरी लिपि के साथ मराठी बंगाली आदि भाषाओं का जन्म हो रहा था |

12. गुर्जर प्रतिहार कौन थे ?

उत्तर – गुर्जर प्रतिहार भारत में बाहर से आये थे | सबसे पहले उन्होंने लगभग 8 वीं शताब्दी में अवंति प्रदेश पर शासन किया बाद में कनौज पर भी अधिकार कर लिया | इन शासको में मिहिर भोज , और महेंद्र पाल विख्यात हुए |

Leave a Comment

error: Content is protected !!