Jantantra ka janm Notes । Bseb Class 10 Hindi जनतंत्र का जन्म

Jantantra Ka Janm Class 10 Hindi, Hindi jantantra ka Janm subjective question answer class 10, जनतंत्र का जन्म question answer, Hindi पाठ-6 ( जनतंत्र का जन्म ) Subjective Question Answe, BSEB कक्षा-10 Hindi पध Chapter 6 जनतंत्र का जन्म, Jantantra ka janm vyakhya, BSEB Solutions for जनतंत्र का जन्म (Jantantra ka Janm) Class 10 Hindi Godhul, जनतंत्र का जन्म objective

Bihar Board Class 10th Hindi पद्य Chapter 6 Jantantra Ka Janm – जनतंत्र का जन्म Question Answer 

पाठ – 6 : जनतंत्र का जन्म
लेखक – रामधारी सिंह दिनकर
जन्म – 23 सितम्बर 1908 में बेगुसराय
मुत्यु – 24 अप्रैल 1974 में

1. कवि की दृष्टि में समय के रथ का घर्घर-नाद क्या है ? स्पष्ट करें ।

उत्तर –  कवि  की दृष्टि में समय के रथ का घर घर नाद भारत में जनतंत्र के उदय का जयघोष है ! सदियों की विदेशी पराधीनता के बाद स्वतंत्रता की प्राप्ति हुई है ! और जनतंत्र की प्राण प्रतिष्ठा की गई है ! और शासन पर जनता का अधिकार हो गया है |

2. कविता के आरंभ में कवि भारतीय जनता का वर्णन किस रूप में करता है ?

उत्तर –  कविता के आरंभ में कवि ने भारतीय जनता की दयनीय दशा का वर्णन किया है ! कवि ने इन्हें मिट्टी की अवैध मूर्त, काकरिया और पोस्ट करने का प्रयास किया है ! कि यह लोग अनेक प्रकार की शारीरिक तथा मानसिक यातनाओं को सहते हुए मौन रहते थे ! इनमें इतनी शक्ति नहीं थी ! कि वे अपने मन की पीड़ा को मुंह खोल कर प्रकट कर सके |

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Facebook Group Join Now

Jantantra ka janm Notes in Hindi

3. कवि के अनुसार किन लोगों की दृष्टि में जानता फूल या दूधमुहि बच्ची की तरह है ! और कवि क्या कह कर उनका प्रतिवाद करता है ?

उत्तर –  कवि के अनुसार सत्ताधारी राज्यों के नेताओं की दृष्टि में जानता दूधमूही बच्चे की तरह है!  क्योंकि सत्ता अधिकारी राजनेताओं को जब जनता के समर्थन या जनमत की आवश्यकता होती है ! तो एक दूधमुहि बच्चों की तरह जनता को बहला – फुसलाकर जनता का जनमत ले लेते है ! और बाद में जानता को ठुकरा देते है |

4. कवि जानता के स्वपन का किस तरह चित्र खींचता है ?

उत्तर –  कवि जानता के अजय स्वपन का चित्र खींचता है ! जिसमें जानता का जय घोष है ! कवी का कहना है ! कि स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद जानता कि शासन की स्थापना होगी ! तथा जनता अपना शासन स्वयं संभालेगी हर व्यक्ति का शासन पर समान अधिकार होगा |

5. विराट जनतंत्र का स्वरूप क्या है ! कवि  किनके  सिर पर मुकुट धरने की बात करता है ! और क्यों ?

उत्तर –  विराट जनतंत्र का स्वरूप हमारे 33 करोड़ नागरिक प्रस्तुत किये है ! इस प्रकार 33 करोड़ जनता को विराट जनतंत्र का स्वरूप कहा गया है ! कवी इस कविता में 33 करोड़ जनता के सर पर मुकुट धरने की बात करते है ! क्योकि जनतंत्र प्रणाली में जानता ही या जानता के द्वारा चुना गया प्रतिनिधि ही शासन को चलाता है |

जनतंत्र का जन्म question answer

6. कवी की दृष्टि में आज के देवता कौन है ! और वे कहां मिलेंगे ?

उत्तर –  कवि की दृष्टि में आज के देवता सड़क, खेत, खलियान, कारखानों में काम करने वाले मेहनती व्यक्ति है !  यह देवता खेत, खलियान और सड़कों पर ही मिलेंगे |

7. कविता का मूल भाव क्या है’ संक्षेप में स्पष्ट कीजिए ?

उत्तर –  कविता का मूल भाव जनतंत्र की स्थापना है ! कवि इस पंक्ति के माध्यम से शोषण करने वाले तथा शोषित होने वाले के बीच भेदभाव को मिटाना चाहते है ! क्योंकि इस व्यवस्था में शासन करने की शक्ति जनता के हाथ में आ जाती है ! और मनमानी समाप्त हो जाती है |

8. व्याख्या करें 
क. सदियों की ठंडी बुझी राख सुगबुगाह ऊठ’’ मिट्टी सोने का ताज पहन इकलाती है ?

उत्तर  प्रस्तुत पंक्ति हमारे पाठ्य पुस्तक हिंदी पाठ्य के काव्यखंड में जनतंत्र का जन्म शीर्षक से लिया गया है ! जिसके लेखक रामधारी सिंह दिनकर जी है ! लेखक इस पंक्ति के माध्यम से यह बताना चाहते हैं ! कि सदियों के गुलामी के बाद देश स्वतंत्र हुआ है ! देश स्वतंत्र होते ही भारत में लोकतंत्र की स्थापना की गई ! लोकतंत्र में शासन की शक्ति जनता के हाथों में आ गई है ! इसमें प्रतिनिधि का चुनाव होता है ! और प्रतिनिधि ही सरकार बना कर देश की संचालन करता है |           

Ncert 10th class hindi jantantra ka janm question answer in hindi

     

ख. हुँकार से महलो की न्यू उखड़ जात’’ सांसो के बल से ताज हवा में उड़ता है’’  जानता कि रोके राह समय में ताव कहा’’  वह जिधर चाहती काल उधर ही मुड़ता है ?

उत्तर –  प्रस्तुत पंक्ति हमारी पाठ्य पुस्तक हिंदी पाठ्य के काव्यखंड में जनतंत्र का जन्म शीर्षक से लिया गया है ! जिसके लेखक रामधारी सिंह दिनकर जी है ! वह इस पंक्ति के माध्यम से यह बताना चाहते हैं ! कि जनता की शक्ति पर प्रकाश डालते हुए कहते हैं ! कि किसी भी देश की जनता देश के लिए सर्वोपरि होती है ! जब जनता संगठित हो जाती है ! तब महान से महान शक्तिशाली शासक का शासन खतरे में पड़ जाता है ! तथा वह गद्दी छोड़ने के लिए मजबूर हो जाता है |

Class 10th Hindi Objective ( पद्य खण्ड )
पाठ – 1राम बिनु बिरथे जगि जनमा
पाठ – 2प्रेम अयनि श्री राधिका
पाठ – 3अति सूधो स्नेह का मारग है
पाठ – 4स्वदेशी
पाठ – 5भारतमाता
पाठ – 6जनतंत्र का जन्म Objective
पाठ – 7हिरोशिमा
पाठ – 8एक वृक्ष की हत्या
पाठ – 9हमारी नींद
पाठ – 10अक्षर-ज्ञान
पाठ – 11लौटकर आऊँग फिर
पाठ – 12मेरे बिना तुम प्रभु
Rate this post

Leave a Comment