Surdas ke Pad Notes | Bseb Class 12 Hindi सूरदास के पद

surdas ke pad class 12 question answer, सूरदास के पद प्रश्न उत्तर, Bihar Board Class 12th Hindi Book Solutions पद्य Chapter 2 सूरदास के पद, सूरदास के पद Subjective Questions Bihar Board, Surdas ke pad summary

Bihar Board Class 12th Hindi Surdas Ke Pad Subjective Question Answer

पाठ – 2 : surdas ke pad notes in hindiशीर्षक : सूरदास के पद
लेखक : सूरदास
जन्म : 1478 अनुमानतः
मुत्यु : 1583जन्म स्थान : दिल्ली के निकट सीही नामक ग्राम में

1. सूरदास का पद का सारांश अथवा भवार्थ लिखे ?
”आथवा”
Q. कवि कृष्ण को जगाने के लिए सूरदास क्या क्या उपमा दे रहे है ?

उत्तर – इस पद में सूरदास ने दुलार भरे कोमल मधुर स्वर में सोये हुए बालक कृष्ण को भोर होने की सुचना देते हुए आग्रह कर रहे है ! की हे नन्द के पुत्र कृष्ण आप जागी अब कमल के फुल खिल उठे है ! भौरा लताओं को भूल गए है ! मुर्गी तथा अन्य पक्षिया कोलाहल कर रहे है ! तथा गए  बर्बो में रंभाकर बिलने लगी है ! और बछड़ो के लिए सूर्य का प्रकाश फ़ैल गया है ! स्त्री और पुरुष गा रहे है ! इसलिए कमल सदृश्य हाथो वाले हे शाम आप उठे अब प्रातः काल हो गया है |

श्याम नन्द की गोद में बैठे भोजन कर रहे है ! वे कुछ खाते है ! और कुछ भूमि पर गिराते है ! इस छवि को नंदरानी देख रही है ! बड़ी बाड़ा वेसन के बहुत से प्रकार तथा विभिन्न प्रकार के अनगिनत व्यंजन है ! वे अपने हाथो से लेकर डालते हुए खा रहे है ! धी तथा मक्खन की तरफ उनकी विशेष रूचि है ! दही और मक्खन को मिलकर छवि के घनी कृष्ण मुख में डालते है ! वे अपने भी खाते है ! और नन्द के मुख में भी डालते है |

Movies & Update WhatsApp Join Now

Study Notes & Pdf WhatsApp Join Now
2. कवि कृष्ण को जगाने के लिए क्या क्या उपमा दे रहा है ?

उत्तर – बज्रराज कुंवर जागिय कमल के फुल खिल चुके है ! मुर्गा और पक्षियों कोलाहल कर रहे है ! इसलिए हे श्याम आप जगीये कमल हाथ में धारण करने वाले श्याम आप जगी कवि कृष्ण को जगाने के लिए श्याम बज्रराज कमल धारण करने वाले नंदानन्द की उपमा दे रहे है |

3. आचर्मन किया हुआ सूरदास जूठन क्यों मांग रहे है ?

उत्तर – सूरदास के प्रभु श्री कृष्ण है ! सूरदास को श्री क्रिशन का रूप अधिक आकर्षण दिखाई देता है ! उसमे उसका बालक रूप बहुत मनमोहक और आनन्दायक दिखाई देता है ! सूरदास देखते है ! की नंदा नंदन कृष्ण जब भोजन कर आचमन करते है ! तो उनकी इच्छा है ! की उन्हें कृष्ण का जूठन भी मिल जाता सूरदास ने कहा है ! की उस काग का भाग देखी जो हरि के हाथ से माक्खन और रोटी को लेकर भाग जाता है ! मुझे यह सौभग्य तो नहीं लेकिन यदि उनका जूठन भी मुझे नसीब होता तो मै धन्य हो जाता इसलिए सूरदास जूठन मांगते है |

4. सूरदास की भक्ति भावना पर प्रकाश डाले ?

उत्तर – सूरदास अपने प्रभु कृष्ण को वैसे रूप पर अधिक मोहित होता है ! जिनमे बालपन हो अर्थात सुर को बाल रूप अधिक मोहोत करता है ! और ईश्वर को बालक के रूप में चित्रित कर मोक्ष की आकांक्षा था ! भक्ति करना वात्सल्य भक्ति कहलाता है ! सूरदास अपने प्रभु कृष्ण का बाल वर्णन ही अधिक किया है ! चुकी बालक परिवार के केंद्र में होता है ! ! उसके क्रिया कलाप सभी को मोहते है ! यधपि सूरदास नए कृष्ण का यपन रूप का वर्णन भी बड़े मन योग से किया है ! परन्तु उनका बालपन में जितना मन रमा है ! उतना और में नहीं |

Class 12th Hindi Subjective Notes
Class 12th Hindi 100 Marks Subjective Notes गद्य खण्ड
पाठ – 1बातचीत 
पाठ – 2उसने कहाँ था 
पाठ – 3सम्पूर्ण क्रांति 
पाठ – 4अर्धनारीश्वर 
पाठ – 5रोज 
पाठ – 6एक लेख और एक पत्र 
पाठ – 7ओ सदानीरा 
पाठ – 8सिपाही की माँ 
पाठ – 9प्रगीत और समाज 
  पाठ – 10जूठन 
  पाठ – 11हँसते हुए मेरा अकेलापन 
  पाठ – 12तिरिछ 
  पाठ – 13शिक्षा
Class 12th Hindi Subjective Notes पद्य खण्ड
पाठ – 1कड़बक 
पाठ – 2सूरदास के पद 
पाठ – 3तुलसीदास के पद 
पाठ – 4छप्पय

Leave a Comment

error: Content is protected !!