Shiksha Question Answer | Bseb Class 12 Hindi शिक्षा Subjective

shiksha question answer class 12th hindi bihar board, bseb class 12 Hindi subjective question answer, Bihar Board Class 12th Hindi Book Solutions गद्य Chapter 13 शिक्षा, शिक्षा (Shiksha) Subjective Question Answer

Bihar Board Class 12th Hindi Chapter 13 Shiksha Question Answer

पाठ – 13 Siksha Class 12th Hindi Question Answer
शीर्षक : शिक्षा
लेखक : जे. कृष्णमूर्ति
जन्म : 12 मई 1895मुत्यु : 17 फरवरी 1986जन्म स्थान : मदनपल्ली आंध्रप्रदेश
माता , पिता : संजीवम्मा देवी , नारायण जिद्दु

1. जे. कृष्णमूर्ति शिक्षा का उदेश्य क्या मानते है ?

उत्तर – मनुष्य को पूरी तरह भरहीं स्वत्रंत और आत्मनिर्भर बनाना ही शिक्षा का उदेश्य है |

2. शिक्षा का क्या अर्थ है ?

उत्तर – शिक्षा सम्पूर्ण जीवन की प्रक्रिया को समझाने में हमारी सहायता करता है |

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Facebook Group Join Now

3. मेघा क्या है ?

उत्तर – मेघा वह शक्ति है ! जिसमे आत्म भय और सिधांत की अनुपस्थिति में स्वधीनता के साथ सोचते है ! ताकि आप अपने लिए सत्य की वास्तविकता की खोज कर सकते है |

siksha chapter 13 hindi class 12th bihar board

4. शिक्षा निबंध का सारांश लिखे ?

उत्तर – जे. कृष्णमूर्ति मानते है ! की शिक्षा मनुष्य का अन्यन करती है ! वह जीवन के सत्य जीने के तरीके में मदद है ! इस संदर्भ को देखते हुए वे बताते है ! की शिक्षा हो या विधार्थी उन्हें यह पूछना आवशयक नहीं है ! की वे क्यों शिक्षित हो रहे है ! क्योकि जीवन विलक्षण है ! Jivan स्मुदियो जातियों और देह्सो का पारस्परिक सतत संघर्ष है 〉 जीवन ध्यान जीवन धर्म भी है ! जीवन गुण है ! जीवन मन की वस्तुए है ! म्ह्त्वकंक्षा बनाए सफलताएं शिक्षाए इन सब का वर्णन करती है |

शिक्षा का कार्य है ! की वह सम्पूर्ण जीवन की प्रक्रिया को समझाने में हमारी सहायता करे ताकि हमे केवल कुछ व्यवसाय या उच्ची नौकरी के योग्य बनाए कृष्णमूर्ति कहते है ! की हमें बचपन से ही ऐसे वातावरण में रहना चाहिए जहाँ भय का वश न  हो नहीं तो व्यक्ति जीवन भर कुंठित हो जाता है ! उसकी महत्वकांक्षा दबकर रह जाती है ! मेघा शक्ति वह शक्ति है ! जिसे आप भय और सिधांत की अनुपस्थिति में आप स्वतंत्र से सोचते है ! ताकि आप सत्य की वास्तविकता को अपने लिए खोज कर सके पूरा विश्व इस भय स सहमा हुआ है ! चुकी यह दिनिया वकीलों सिपाहियों औए सैनिको की दुनिया है ! यहाँ प्रत्येक मनुष्य किसी न किसी के विरोध खाड है ! किसी सुरक्षित स्थान पर प्रतिष्ठा सम्मान शक्ति वह आराम के लिए संघर्ष कर रहा है |

5. जहाँ भय ‘है’ वहाँ मेघा नहीं हो सकती क्यों ?

उत्तर –  मेघा वह शक्ति है ! जिससे मनुष्य सिधान्तो की अनुपस्थिति में निर्भिय्ता पूर्वक सोचता है ! ताकि वह सत्य और यर्थात को समझ सके यदि मनुष्य भयभीत रहता है ! तो कभी मेधावी नहीं हो सकेगी किसी प्रकार का महत्वकंक्षा चाहे अध्यात्मिक हो या सांसारिक चिंता और भय का निर्माण करती है ! जबकि ठीक से इसके विपरीत निर्भीक वातावरण में मेधा का जन्म होता है ! इसलिए जहां भय है ! वहाँ मेधा नहीं हो सकती है |

12th class hindi gadh chapter 13 shiksha notes in hindi

6. शिक्षा का क्या अर्थ है एवं इसके क्या कार्य है ?

उत्तर – मानव जीवन का सर्वागिक विकास प्राप्त करने का अर्थ शिक्षा है ! इसमें मनुष्य की साक्षरता बुद्धिमान जीवन कौशल सभी समाज उपयोगी गुण पाए जाते है |

शिक्षा का कार्य :- शिक्षा का कार्य केवल मात्र कुछ नौकरी और व्यवसाय की योग्य बनाना ही नहीं है ! बल्कि सम्पूर्ण जीवन प्रक्रिया को बाल्यकाल से ही समझने में सहयोग करना है ! तथा स्वतंत्रा पूर्वक परिवेश हेतु प्रेरित करना है |

Class 12th Hindi 100 Marks Subjective Notes गद्य खण्ड
पाठ – 1बातचीत 
पाठ – 2उसने कहाँ था 
पाठ – 3सम्पूर्ण क्रांति 
पाठ – 4अर्धनारीश्वर 
पाठ – 5रोज 
पाठ – 6एक लेख और एक पत्र 
पाठ – 7ओ सदानीरा 
पाठ – 8सिपाही की माँ 
पाठ – 9प्रगीत और समाज 
  पाठ – 10जूठन 
  पाठ – 11हँसते हुए मेरा अकेलापन 
  पाठ – 12तिरिछ 
  पाठ – 13शिक्षा
Class 12th Hindi Subjective Notes पद्य खण्ड
पाठ – 1कड़बक 
पाठ – 2सूरदास के पद 
पाठ – 3तुलसीदास के पद 
पाठ – 4छप्पय
Rate this post

Leave a Comment