Sampurn Kranti Notes | Bseb Class 12 Hindi सम्पूर्ण क्रांति

Sampurn Kranti Class 12th in Hindi Bihar Board, संपूर्ण क्रांति Subjective Questions bihar board, Bihar Board Class 12th Hindi Book Solutions गद्य Chapter 3 संपूर्ण क्रांति, संपूर्ण क्रांति का प्रश्न उत्तर, Sampurn Kranti(सम्पूर्ण क्रांति) Subjective Question Answer, Class 12th Hindi Chapter 3 संपूर्ण क्रान्ति : जयप्रकाश नारायण

Bihar Board Class 12th Hindi Chapter 3 Sampurn Kranti – सम्पूर्ण क्रांति Subjective

पाठ 3 : 12th hindi sampurn kranti question answerलेखक : जयप्रकाश नारायण
शीर्षक : सम्पूर्ण क्रांति
जन्म : 11 अक्टूबर 1902मुत्यु : 8 अक्टूबर 1979जन्म स्थान : सिताब दियारा गाँव
माता : फुलरानी
पिता : हरसूदयाल

1. आंदोलन के नेतृत्व के संबंध में जयप्रकाश नारायण का क्या विचार था |
”अथवा”
Q. जयप्रकाश नारायण किस प्रकार का नेतृत्व देना चाहते थे ?

उत्तर –  जयप्रकाश नारायण ने अपने दो मित्रों दिनकर जी और बेनीपुरी जी की यादगार और अपनी जिम्मेवारी का पूरा अहसास था ! छात्रों का आग्रह हुआ ! कि आंदोलन का वह नेतृत्व करें पर क्रांति की सफलता के लिए उन्होंने बिना स्वार्थ के काम करेंगे ! लेकिन सभी के बातों को सुनेंगे और सभी को संघर्ष करना पड़ेगा ! तथा मेरे फैसलों को मानना पड़ेगा ! तब जाकर या क्रांति सफल हो सकती है |

2. किसके अहवाहन पर जयप्रकाश नारायण ने कॉलेज छोड़ा था ?

उत्तर – जयप्रकाश ने गांधी जी के अहवाहन पर कॉलेज छोड़ा था |

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Facebook Group Join Now

sampurn karanti class 12 hindi chapter 3 bihar board

3. दिनकर जी का निधन कहां और किन परिस्थितियों में हुआ था ?

उत्तर – दिनकर जी का निधन रामनाथ गोयनका जी के घर हुआ था ! निधन के दिन दिनकर जी जेपी से मिलने गए थे ! उसी रात्रि में वह जेपी के मित्र रामनाथ गोयनका  के घर पर मेहमान थे ! रात को दिल का दौरा पड़ा 3 मिनट में उनको अस्पताल पहुंचाया गया ! वहां पर सारी व्यवस्था थी ! सभी डॉक्टर सब तरह से तैयार थे ! लेकिन दिनकर जी फिर भी जिंदा नहीं हो पाए ! उसी रात उनका निधन हो गया |

4. जयप्रकाश नारायण के अनुसार डेमोक्रेसी का शत्रु कौन थे ?

उत्तर – जयप्रकाश नारायण के अनुसार डेमोक्रेसी के शत्रु हुए हैं ! जो जनता के विचारों का विरोध करते हैं ! उस पर लाठियां चलाते हैं ! तथा गोलियां बरसाते हैं ! उनके शांति में बाधा डालते हैं ! उनके आवाज को दबाने का प्रयास करते हैं ! वैसे लोग डेमोक्रेसी का शत्रु है |

5. हिंदी कहानी के विकास की तीन चरण कौन कौन से है ?

उत्तर – हिंदी कहानी के विकास की तीन चरण निम्नलिखित है” जो इस प्रकार से है –

. प्रेमचंद्र के पूर्व युग की कहानी (1901-1914)
. प्रेमचंद्र युग की कहानी (1914-1936)
. प्रेमचंद्र युग की बात की कहानी (1936 – आजतक)

6. लहना सिंह लपटन साहब से शिकार वाले प्रसंग की चर्चा क्यों करता है ?

उत्तर – लहना सिंह को लपटन साहब पर जर्मन जासूस होने का संदेह हो गया था |

7. लहना सिंह का सपना क्या था ?

उत्तर – लहना सिंह का सपना था कि उसका अपने गांव में बाग़ हो जिसमें खखुज आम फल फूल जैसे पौधे लगे हो |

8. सूबेदार और उसका बेटा लड़ाई में क्यों गया ?

उत्तर – सूबेदार की अंग्रेज सरकार से बहादुरी का किताब और जमीन जायदाद मिली थी ! उन्हें इसके बदले में अपनी वफादारी निभानी थी |

12th Class Hindi Chpater 3 sampurn kranti subjective notes in hindi

9. भ्रष्टाचार की जड़ क्या है ?

उत्तर – भ्रष्टाचार की जड़ सरकार की गलत नीतियां है ! यह गलत नीतियों के कारण भुखमरी महंगाई और भ्रष्टाचार है  ! बिना रिश्वत दिए किसी प्रकार के काम नहीं हो रही है ! हमारे नौजवानों का भविष्य अंधकार में पड़ रहा है ! चारों तरफ भ्रष्टाचार फैला हुआ है ! इसे दूर करने के लिए समाजवादी तरीकों से सरकार ऐसी नीतियां बनाई जो लोक कल्याणकारी हो |

10. बातचीत निबंध का सारांश लिखिए ?

उत्तर – बातचीत निबंध बालकृष्ण भट्ट द्वारा लिखी गई है ! बालकृष्ण भट्ट बातचीत के माध्यम से मनुष्य को ईश्वर द्वारा दी गई ! अनमोल वस्तु का  वावाक्र्शक्ति  का सही इस्तेमाल करने को बताते हैं ! वह बताते हैं ! कि यदि वाक्र्शक्ति मनुष्य में ना होती तो हम नहीं जानते कि इस गूंगी सृष्टि का क्या हाल होता सभी लोग सऊदी लोग मानव लुंज पुंज अवस्था में कोने में बैठे होते बातचीत के विभिन्न तरीके होते हैं ! घरेलू बातचीत मन बहलाने का ढंग है ! वे बताते हैं ! कि जहां आदमी की अपनी जिंदगी मजेदार बनाने के लिए खाने-पीने चलने फिरने आदि की जरूरत है |

ठीक उसी प्रकार बातचीत भी मनुष्य के जीवन के लिए अति आवश्यक है ! जब तक मनुष्य बातचीत नहीं करता तब तक उसके गुण दोष के बारे में पता नहीं लगाया जा सकता ! अगर मनुष्य के अंदर कुछ गलतफहमियां या धुआ जमा हो जाता है ! तब वह बातचीत के जरिए उसे दूर किया जा सकता है ! उसके बाद उसका मन स्वक्ष और आनंदमय हो जाता है ! जब दो व्यक्ति आपस में बात करते हैं ! तो वह दिल की बात खुलकर करते हैं ! परंतु जब दो या दो से अधिक व्यक्ति हो जाते हैं ! तो केवल राम रमौल की बात होती है ! बालकृष्ण भट्ट बातचीत का उत्तम तरीका यह मानते है ! की हम वह शक्ति पैदा करे की अपने आप बात कर सके |

Class 12th Hindi Subjective Notes
Class 12th Hindi 100 Marks Subjective Notes गद्य खण्ड
पाठ – 1बातचीत 
पाठ – 2उसने कहाँ था 
पाठ – 3सम्पूर्ण क्रांति 
पाठ – 4अर्धनारीश्वर 
पाठ – 5रोज 
पाठ – 6एक लेख और एक पत्र 
पाठ – 7ओ सदानीरा 
पाठ – 8सिपाही की माँ 
पाठ – 9प्रगीत और समाज 
  पाठ – 10जूठन 
  पाठ – 11हँसते हुए मेरा अकेलापन 
  पाठ – 12तिरिछ 
  पाठ – 13शिक्षा
Class 12th Hindi Subjective Notes पद्य खण्ड
पाठ – 1कड़बक 
पाठ – 2सूरदास के पद 
पाठ – 3तुलसीदास के पद 
पाठ – 4छप्पय

Leave a Comment

error: Content is protected !!