Prageet Aur Samaj Notes | Bseb Class 12 Hindi प्रगीत और समाज

prageet aur samaj notes, प्रगीत और समाज Prageet or Samaj Subjective Question Answer of 12th Class Hindi, Bihar Board Hindi 100 Marks पाठ -9. प्रगीत और समाज, Bihar Board Class 12th Hindi Book Solution Chapter 9 प्रगति और समाज, Prageet or Samaj class 12 in hindi, प्रगीत और समाज का सारांश, prageet aur samaj ka question answer, प्रगीत और समाज के प्रश्न उत्तर

Bihar Board Class 12th Hindi Chapter 9 Prageet Aur samaj – प्रगीत और समाज Subjective

पाठ – 9 : Pragati Aur Samaj Notes in Hindiशीर्षक : प्रगीत और समाज
जन्म : नामवर सिंह
निवास स्थान : उत्तरप्रदेश
माता-पिता : वागेश्वरी देवी , नागर सिंह

1. प्रगति को आप किस प्रकार परिभाषित करेंगे इसके बारे में क्या धारणा प्रचलित रही है ?

उत्तर – प्रगति या लोरिक कवी की एक ऐसी विद्या है ! जिसमें कभी की व्यक्तित्व और आत्मा दोनों की प्रबल भावना रहती है ! ऐसी कविताएं संक्षिप्त होती है ! जीवन के विभिन्न पक्षों का उद्घाटन जहां प्रबंध काव्य में किया जाता है ! वहां प्रगति में छन विशेष की आत्मा प्रकट की भावना अभिव्यक्ति संभव होती है ! प्रगति धार्मिक कविताएं छोटी होती है ! इसमें जीवन की अनेक प्रवृतियां का चित्रण संभव नहीं है ! इसके बारे में ऐसी धारणा प्रचलित रही है ! कि इसकी अर्थ भूमि अत्यंत ही सिमित है ! एवं एकांकी जिसमें जीवन के प्रत्येक घटनाओं अनुभूतियों की अभिव्यक्ति संभव नहीं है |

2. आचार्य रामचंद्र शुक्ल के काव्य आदर्श क्या थे पाठ के आधार पर स्पष्ट करें ?

उत्तर – आचार्य रामचंद्र शुक्ल के काव्य सिद्धांत के आदेश प्रबंध काव्य थे प्रबंध काव्य में मानव जीवन का पूर्ण दृश्य होता है ! उसमें घटनाओं की संबंध श्रृंखला स्वाभाविक कर्म से ठीक-ठीक निरहुआ के दृश्य को स्पर्श करने वाले उसे भाव का अनुभव कराने वाले प्रसंग होते हैं ! यही नहीं प्रबंध काव्य में राष्ट्रीय प्रेम जातियां भावना धर्म प्रेम आदर्श जीवन की प्रेरणा देना ही उसका उद्देश्य होता है |

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Facebook Group Join Now

3. हिंदी कविता के इतिहास में प्रगीतो का क्या स्थान ‘है’ उदाहरण स्पष्ट करें ?
‘अथवा’
Q. नामवर सिंह किन कविताओं को श्रेष्ठ मानते हैं ?

उत्तर – प्रगति वे कविताएं हैं ! जिन्हें अक्सर माना जाता है ! कि यह कविताएं सीधे सामाजिक ना होकर अपनी व्यतिकता और आत्म प्रगति काव्य की कोटि में आ जाती है ! प्रगति धार्मिक कविताए न तो समाजिक अभिव्यक्ति के लिए पर्याप्त समझी जाती है ! उसने उसकी अपेक्षा की जाती है ! क्योकि समान्य समझकर नितांत अनुभूतियो की अभिव्यक्ति मात्र है ! त्रिलोचन नए वर्णान्त्म्क कविताओ के बवजूद ज्रात्र गीत ही लिखे है ! कहने के लिए तो यह एक प्रगति है ! लेकिन जीवन जगत और प्रकृति के जितने रंग बिरंगे चित्र त्रिलोचन के काव्य संसार में मिलते है ! वह अन्यर्थ दुर्लभ है ! प्रगीतो के नित कथन अधिक शक्तिशाली होती है ! अतः प्रगति का इतिहास समकालीन कवियों का इतिहास कह सकते है |

4. प्रगति और समाज शीर्षक निबंध का सरांश अपने शब्दों में लिखे ?

उत्तर – प्रस्तुत निबंध नामवर सिंह द्वारा लिखित आलोचनातमक निबंधो की पुस्तक वाद विवाद संवाद से लिया गया है ! इस निबंध में हजारो वर्षो से फैली हिंदी काव्य परम्परा पर इतिहास अन्तः दृष्टि के साथ विचार करते हुए ! प्रगति नामक काव्य रूप की निरंत्रनता हिंदी समाज की प्रकृति और भाव प्रवाह के अन के रूप परिभाषित किया है ! वह इतिहास और परपरा की पहचान करती हुई समाजिक समास्याओ और तथ्यों की इतिहासिक समाजिक तथा घरे से पहचान कराती है ! वह वर्तमान को अधिक घरे के साथ जाने समझने की अंतर दृष्टि जगाती है vयह सब इस निबंध से लिखा जा सकता है |

आधुनिक हिंदी प्रगति और मुक्त के मिश्रण से नए भाव भूमि पर जो गीत लिखे जाते है ! पिछले कुछ वर्षो में हिंदी कविता के वातावरण में कुछ परिवर्तन के लक्षण दिखाई पड़ रहे है ! एक नए स्तर पर कवि व्यक्ति अपने और समाज के बिच के रिश्तो को साधने की कोशिश कर रहा है ! इस प्रक्रिया में जो व्यक्तित्व बनता दिखाई दे रहा है ! वह निश्चय ही एक नए दंग की प्रगति के उभार संकेत है |

Class 12th Hindi 100 Marks Subjective Notes गद्य खण्ड
पाठ – 1बातचीत 
पाठ – 2उसने कहाँ था 
पाठ – 3सम्पूर्ण क्रांति 
पाठ – 4अर्धनारीश्वर 
पाठ – 5रोज 
पाठ – 6एक लेख और एक पत्र 
पाठ – 7ओ सदानीरा 
पाठ – 8सिपाही की माँ 
पाठ – 9प्रगीत और समाज 
  पाठ – 10जूठन 
  पाठ – 11हँसते हुए मेरा अकेलापन 
  पाठ – 12तिरिछ 
  पाठ – 13शिक्षा
Class 12th Hindi Subjective Notes पद्य खण्ड
पाठ – 1कड़बक 
पाठ – 2सूरदास के पद 
पाठ – 3तुलसीदास के पद 
पाठ – 4छप्पय

Leave a Comment

error: Content is protected !!