Sipahi Ki Maa | Bseb Class 12th Hindi सिपाही की माँ

class 12 Hindi Sipahi ki ma subjective question answer, सिपाही की माँ प्रश्न उत्तर, sipahi ki maa subjective question, sipahi ki maa subjective question, sipahi ki maa mohan rakesh, सिपाही की माँ question answer

Bihar Board Class 12 Hindi Chapter 8 sipahi ki maa – सिपाही कि माँ Subjective

पाठ – 8 : Sipahi Ki Maa Notes In Hindi
शीर्षक : सिपाही की माँ
लेखक : मोहन राकेश
जन्म :
जनवरी 1925
मुत्यु :
3 दिसम्बर 1972
निवास स्थान : जंडी वाली गली अमृतसर पंजाब

1. मानक और सिपाही एक दूसरे को क्यों मारना चाहते थे ?

उत्तर – मानक बर्मा की लड़ाई में भारत की ओर से अंग्रेजों के साथ लड़ने गया था ! दूसरी ओर की पक्ष जपानी थी ! अतः सेना  एक दूसरे की दुश्मन थी ! इसलिए मानक और सिपाही एक दूसरे को मारना चाहते थे |

2. बिशनी मानक को लड़ाई में क्यों भेजती है ?

उत्तर – बिशनी  एक निम्न मध्यवर्गीय परिवार की महिला है ! उसे अपनी मुन्नी की शादी के लिए पैसे की जरूरत है ! इसलिए मानव को पैसे कमाने के उद्देश्य से लड़ाई में भेजती है |

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Facebook Group Join Now

sipahi ki maa notes in hindi class 12th bihar board

3. बिशनी और मुन्नी को किसकी प्रतीक्षा ‘है’ वे डाकियो की राह क्यों देखती है ?

उत्तर – बिशनी को अपने सिपाही पुत्र की प्रतीक्षा है ! वे डाकियो की राह चिठ्ठी आने को देखती है ! क्योकि उसने पिछले चिठ्ठी में लिखा था ! की वे वर्मा के लड़ाई पर जा रहा है ! माँ और बेटी किसी अनिष्ट की संका के कारण चिठ्ठी का इंतजार करती है |

4. रात में बिशनी सपना क्या देखती है ?

उत्तर – रात में बिशनी भयानक सपना देखती है ! कुछ दुरी पर गोली चलाने की आवाज सुनाई पड़ती है ! और कई व्यक्तियों के बोलने की आवाज आती है ! थोड़े ही देर के बाद घायल व्यक्ति की आवाज सुनाई पड़ती है ! बिशनी फौजी लिवास पहने एक घायल युवक को देखती है ! और वह कोइ नहीं बल्कि उसका बेटा मानक है ! बिशनी मानक का सर गोदी में लेकर उस पर झुक जाती है ! मानक कठिनता से सर उठाता है |

5. बिशनी मानक की माँ ‘है’ पर उसमे किसी भी सिपाही की माँ को ढूंढा जा सकता है ?

उत्तर – एकाकी के दुसरे भाग में बिशनी के स्वपन में जो घटना घटती है ! उसमे जो संवाद होता है ! उस संवाद से उसमे किसी भी सिपाही की माँ को ढूंढा जा सकता है ! जब सिपाही मानक को खदेड़ते हुए बिशनी के पास ले आता है ! तो मानक बिशनी के गले से लिपट जाता है ! और सिपाही के पूछने पर की इसकी तू क्या लगती है ! बिशनी जबाब आता है ! मै इसकी माँ हूँ तुझे मारने नहीं दूंगी ! तब सिपाही का जबाब आता है ! यह हजारो का दुश्मन है ! वे उसको खोज रहे है |

तब बिशनी कहती है ! तू भी तो आदमी है ! तेरा भी घर बार होगा तेरी भी माँ होगी तू माँ के दिल को नहीं समझता है ! अपने बच्चो को अच्छी तरह से जानती है ! साथ ही जब मानक का पलटवार सिपाही पर होता है ! तब बिशनी मानक को यह कहती है ! की बेटा तू इसे नहीं मारेगा तुझे तेरी माँ की सौगंध है ! इन बातो से पता चलता है ! की बिशनी मानक को जितना बाचना चाहती है ! उतना सिपाही को भी बचाना चाहती है ! उसका दिल दोनों के लिए एक है ! अतः उसमे किसी भी सिपाही की माँ को ढूंढा जा सकता है |

6. मुन्नी के विवाह की चिंता ना होता तो मानक लड़ाई पर न जाता और उसकी यह दसा ना होती यह चिंता किसी लड़ाई से कम नहीं ‘है’ क्या आप इस कथन से सहमत ‘है’ अपने पक्ष उत्तर दे ?

उत्तर – निम्न मध्य वर्गीय व्यक्ति के लिए सबसे बड़ी उसकी समस्या आर्थिक समस्या होती है ! वह मुन्नी के विवाह की चिन्ता के कारण है ! युद्ध पर जाता है ! मुन्नी की शादी की चिंता सता रही है ! जिस समाज में बिना दहेज के शादी न हो वह समाज कलंकित समाज है ! हमे उस समाज से लड़ाई लडनी चाहिए ! इस सड़े हुए समाज को बदलने के लिए युद्ध के समान ही लड़ाई लड़ना चाहिए तब जाकर इसका निदान होगा इसलिए विवाह की चिंता लड़ाई से कम नहीं है |

12th class hindi sipahi ki maa question answer

7. भैया मेरे लिए जो कड़े लाएंगे वह बेती और तारो के कड़ो से भी अच्छे होंगे ! मुन्नी के इस कथन को ध्यान में रखते हुए उसका परिचय अपने शब्द में लिखिए ?

उत्तर – मुन्नी सिपाही मानक की बहन और बिशनी की पुत्री है ! उसकी उम्र इस लायक हो चुकी है ! की शादी की जा सके वह एक निम्न मध्यवर्गीय परिवार से संबंध रखती है ! उसके सारे सपने उसके भाई सिपाही मानक के साथ जुड़े हुए है ! वे गाँव के लडकियों को कड़े पहने देखकर अपनी माँ से कहती है ! की भैया मेरे लिए जो कड़े लायेंगे वह तारो और बेतों के कड़े से अच्छे होंगे ! मुन्नी अपने भाई से बहुत प्रेम करती है ! अपने भाई के लड़ाई मे जाने के बाद मानक का चिठ्ठी का इंतजार बड़ी बेसबरी से करती है ! और मन से तरह तरह के प्रश्न करती है ! क्योकि उसके सारे सपने और अरमान उसके भाई मानक के साथ जुड़े है |

8. सिपाही की माँ शीर्षक पाठ से क्या समझते ‘है’ बताइए ?

उत्तर – सिपाही की माँ शीर्षक एकांकी मोहन राकेश द्वारा लिखित अंडे के छिलके तथा अन्य एकांकी से ली गई है ! मोहन राकेश की इस मार्मिक रचना में निम्न माध्यम वर्ग की एक इसाई माँ बेटी की कथा वस्तु प्रस्तुत है ! जिनके घर का एकलौता लड़का सिपाही के रूप में द्रितीय विश्व युद्ध के मोर्चे पर वर्मा में लड़ने गया है ! वह अपने माँ का एकलौता पुत्र और विवाह के लिए तैयार अपने बहन का एकलौता भाई है |

9. मोहन राकेश एकांकी सिपाही की माँ की सरांश अपने शब्दों में लिखिए ?

उत्तर – मोहन राकेश की प्रस्तुत एकांकी मार्मिक रचना में निम्न मध्यवर्गीय एक ऐसी माँ बेटी की कथा प्रस्तुत है ! जिनका घर का एक लौता लड़का सिपाही के रूप में द्रितीय विश्व युद्ध के मोर्चे पर वर्मा में लड़ने गया है ! वह अपनी माँ का एक लौता बेटा और विवाह के लिए अपनी बहन का एकलौता भाई है ! उसी पर पुरे घर की आशा टिकी हुई है ! लड़ाई के मोर्चे से कमाकर लौटे तो बहन के हाथ पीले हो संकेंगे ! माँ एक देहाती स्त्री है ! वह ये भी नहीं जानती की वर्मा उसके गाँव से कितनी दूर है ! और लड़ाई कैसी किनसे और किसके लिए हो रही है ! उसका अंजाम कैसा हो सकता है |

सिपाही की माँ प्रश्न उत्तर

बिशनी मोहन राकेश द्वारा लिखित सिपाही की माँ शीर्षक एकांकी के शीर्षक से ही यह स्पष्ट होता है ! की बिशनी केवल मानक की मन ही नहीं बलकी वह किसी भी सिपाही की माँ है ! सिपाही की माँ का गुण तब दिखाई पड़ता है ! जब वह स्वपन में सिपाही बेटे मानक और दुश्मन सिपाही में लड़ते हुए देखकर विचलित नहीं होती है ! बल्कि वह हर हाल में अपने बेटे मानक को दुश्मन सिपाही से बचाती है ! जब उसी का सिपाही बेटा दुश्मन सिपाही को मारना चाहता है ! तो यह कार्य भी उसे कतही पसंद नहीं है ! वह दृढ़ता पूर्वक अपने बेटे मानक को दुश्मन सिपाही को मारने से रोकती है |

वह मानक से कहती है ! की वह भी हमारी तरह गरीब आदमी है ! इसकी माँ इसके पीछे रो-रो कर पागल हो गई है ! इसके घर में बच्चा होने वाला है ! वह मर गया तो उसकी बीबी फांसी लगाकर मर जाएगी ! यहाँ बिशनी का चरित्र सबकी माँ के रूप में पाठक के सामने आया है 〈 वह केवल मानक की माँ नहीं वह सबकी माँ है ! वह किसी के बेटे को मरते देखना नहीं चाहती है ! वह सही अर्थ में एक माँ है ! इसलिए यह कथन उचित है ! की बिशनी के मातृत्व में किस भी सिपाही की माँ को ढूंढा जा सकता है |

10. नहीं फौजी बहन लड़ने के लिए ‘है’ वे नहीं भाग सकते जो फौज छोड़कर भागता ‘है” उसे गोली मर दी जाती ‘है’ सप्रसंग व्यख्या करे ?

उत्तर – प्रस्तुत पंक्तियों मोहन राकेश द्वारा लिखित सिपाही की माँ शीर्षक एकांकी से लिया गया है ! मानक की प्रतीक्षा में बिशनी और मुन्नी पड़ोसन कुंती से बातचीत कर रही है ! इसी बिच दो नवजवान लडकिय भिक्षा मांगने बिशनी के समक्ष आ जाती है ! बातचीत के क्रम में मालुम होता है ! की दोनों लडकीया वर्मा में होने वाली लड़ाई से जान बचाकर भाग आई है ! वर्मा में अंग्रेजी और जपानी सेना के बिच युद्ध चल रहा है !

मानक भी वर्मा की लड़ाई में एक फौज है ! तर्क वितर्क के प्रसंग में वर्मा से कोई फौजी भागकर बही आ सकता है ! और कहती है ! वही फौजी वहाँ लड़ने के लिए है ! वे नहीं भाग सकते जो फौज छोड़कर भागता उसे गोली मर दी जाती है | प्रस्तुत पंक्तियों में लेखक नए सेना के नियमो एवं सेना से भागने पर फौजीयो के साथ व्यहार पर चर्चा की है ! लेखक का कहाना है ! की एक सही फौजी युद्ध से भागता भी नहीं और उसके भागने का परिणाम भी बड़ा बुरा होता है |

Class 12th Hindi 100 Marks Subjective Notes गद्य खण्ड
पाठ – 1बातचीत 
पाठ – 2उसने कहाँ था 
पाठ – 3सम्पूर्ण क्रांति 
पाठ – 4अर्धनारीश्वर 
पाठ – 5रोज 
पाठ – 6एक लेख और एक पत्र 
पाठ – 7ओ सदानीरा 
पाठ – 8सिपाही की माँ 
पाठ – 9प्रगीत और समाज 
  पाठ – 10जूठन 
  पाठ – 11हँसते हुए मेरा अकेलापन 
  पाठ – 12तिरिछ 
  पाठ – 13शिक्षा
Class 12th Hindi Subjective Notes पद्य खण्ड
पाठ – 1कड़बक 
पाठ – 2सूरदास के पद 
पाठ – 3तुलसीदास के पद 
पाठ – 4छप्पय
Rate this post

Leave a Comment