Bseb Class 10 Geography वन एवं वन्य प्राणी संसाधन

van evam vanya prani sansadhan question answer, वन एवं वन्य जीव संसाधन pdf notes, वन एवं वन्य जीव संसाधन class 10 important questions, वन एवं वन्य जीव संसाधन class 10 questions answer, वन एवं वन्य जीव संसाधन class 10,bihar board class 10 geography van avn vanya prani sansadhan notes

Bihar Board Class 10th Geography Chapter 1C Van Evam Vanya Prani Sansadhan – वन एवं वन्य जीव संसाधन प्रश्न उत्तर 

पाठ – 1C : वन्य एवं वन्य प्राणी संसाधन

1. वन किसे कहते हैं ?

उत्तर – वन उस बड़े भू-भाग को कहते हैं ! जो पेड़ पौधे एवं झाड़ियां द्वारा घिरा होता हैं | वन के प्रकार वन मुख्य तो दो प्रकार के होते हैं जो इस प्रकार से है –

क. प्राकृतिक वन :- वैसा वन जो स्वत्: विकसित होते हैं” उसे प्राकृतिक वन कहते हैं |

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Facebook Group Join Now

ख. मानव निर्मित वन :- वैसा वन जो मानव द्वारा विकसित किए जाते हैं” उसे मानव निर्मित वन कहते हैं |

2. वृक्षों के घनत्व के आधार पर वनों को कितने भागों में बांटा गया है” सभी वर्गों को सविस्तार वर्णन कीजिए ?

उत्तर – वृक्षों के घनत्व के आधार पर वनो को पांच भागों में बांटा गया है” जो इस प्रकार से है –

क. अत्यंत सघन वन :-  इस प्रकार के वन का विस्तार 54.6 लाख हेक्टेयर भूमि पर है” जो कुल भौगोलिक क्षेत्र का 1.66% है” असम एवं सिक्किम को छोड़कर सभी पूर्वोतर राज्य इस वर्ग में आते है” इन क्षेत्रो में वनों का धनत्व 75% से अधिक है |

ख. सघन वन :- इसके अंतर्गत 73.60 लाख हेक्टेयर भूमि आते हैं” जो कुल भौगोलिक क्षेत्र का 3% है” हिमाचल प्रदेश सिक्किम मध्यप्रदेश , जम्मूकश्मीर , महाराष्ट्र एवं उतराखंड के पहाड़ी क्षेत्र में इस प्रकार के वनों का विस्तार है” यहाँ वनों का धनत्व 62.99% है |

ग. खुले वन :- यह वन 2.59 करोड़ हेक्टेयर भूमि पर इस वर्ग के वनों का विस्तार है” कर्नाटक तमिलनाडु केरल उड़ीसा एवं असम के कुछ जिलों में इस प्रकार के वनों का विस्तार है” इन जिलों में वृक्षों का घनत्व 23.89% है |

घ. झाड़ियां एवं अन्य वन :- राजस्थान का मरुस्थलीय क्षेत्रों एवं अर्धशुष्क क्षेत्र में इस प्रकार के वन पाए जाते हैं ! पंजाब हरियाणा उत्तर प्रदेश बिहार एवं पश्चिम बंगाल के मैदानी भागों में वृक्षों का घनत्व 10% से कम है” इसके अंतर्गत 2.459 करोड़ हेक्टेयर भूमि आते है |

ङ. मैंग्रोव तटीय वन :- इस वन का विस्तार समुंद्र तटीय राज्यों में फैला है ! जिसमें आधा क्षेत्र पर पश्चिम बंगाल के समुंदर वन में है” इसके बाद गुजरात और अंडमान निकोबार आते हैं ! देश के 12 राज्य केन्द्रशासित प्रदेशो में तटीय वन है” आंध्रप्रदेश गुजरात , महाराष्ट्र ,उड़ीसा केरल इत्यादि है |

3. बिहार में वन संपदा की वर्तमान स्थिति का वर्णन कीजिए ?

उत्तर – बिहार झारखंड बंटवारे के बाद बिहार में वन संपदा बहुत कम बच गया है ! क्योंकि वर्तमान बिहार में अधिकतर भूमि कृषि योग्य है ! बिहार के 38 जिलो में से 17 जिलो में वन क्षेत्र समाप्त हो गया है ! पश्चिम चंपारण , मुंगेर , बांका, जमुई , इत्यादि क्षेत्रो में वनों की स्थिति कुछ बेहतर है |

Bihar Board Class 8 Social Science वन एवं वन्य प्राणी संसाधन

4. वन विनाश के मुख्य कारकों को लिखिए ?

उत्तर – वन विनाश के मुख्य कारक निम्नलिखित है” जो इस प्रकार से हैं –
क. कृषिगत भूमि के फैलाव से
ख. उद्योग धंधों के निर्माण से
ग. पशु चारण और  सड़क निर्माण से
घ. इंधन के लिए लकड़ियों के उपयोग से
च. रेल मार्ग निर्माण से
छ. शहरीकरण की विकास से
ज. नदी परियोजना के विकास से
झ. जनसंख्या में वृद्धि से

5. वन के पर्यावरणीय महत्व का वर्णन कीजिए ?

उत्तर – वन पर्यावरण को संतुलित रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है” वन एवं वन्य प्राणी मानव जीवन के हमसफर हैं ! वन पृथ्वी के लिए सुरक्षा कवच जैसा है ! वन हमारे धरती पर एक अमूल्य है ! जिससे हमें भोजन वस्त्र एवं आवास की सामग्री उपलब्ध होती है ! इसकी चहक महक हमारे जीवन की स्फूर्ति प्रदान करती है |

6. वन और वन्य जीव के संरक्षण में सहयोगी रीति-रिवाजों का उल्लेख कीजिए ?

उत्तर – प्रत्येक धार्मिक ग्रंथों तथा विभिन्न कथाओं में वन एवं प्राणी का महत्व दिया गया है ! ग्रामीण लोग कई धार्मिक अनुष्ठानों में से अधिक पौधे की पूजा करते हैं ! तथा जीवो को भी पूजा-अर्चना की जाती है ! जिससे अनेक संरक्षण पर बल मिलता है |

7. वन्यजीवों के हर्ष के चार प्रमुख कारकों का उल्लेख कीजिए ?

उत्तर – वन्यजीवों के हर्ष के निम्नलिखित कारण है ! जो इस प्रकार से है –
क. प्राकृतिक आवासों का अतिक्रमण
ख. प्रदूषण जनित समस्या
ग. आर्थिक लाभ
घ. सह विलुप्रता

8. कैंसर रोग के उपचार में वन का क्या योगदान है ?

उत्तर – टैक्सोल वृक्ष जिसे चीड़ के नाम से भी जाना जाता है ! वह वृक्ष हिमालय वन प्रदेश का एक औषधीय पौधा है ! इस पौधे की छाल पत्तियों जड़ो टहनियों से टेक्सोल नामक रसायन निकाला जाता है ! जिसका प्रयोग कैंसर के उपचार में किया जाता है |

9. चिपको आंदोलन क्या है ?

उत्तर – उत्तर प्रदेश के टेहरी गढ़वाल पर्वतीय जिले में सुंदरलाल बहुगुणा के नेतृत्व में अनपढ़ जनजातियों द्वारा 1972 में चिपको आन्दोलन शुरू हुआ था ! इस आन्दोलन में स्थानीय लोग ठेकेदार को कुल्हाड़ी से हरे भरे पौधो को काटते देख उसे बचाने के लिए अपनी बाहों में पकड लेते  है ! इसलिए इस आन्दोलन को ही चिपको आंदोलन के नाम से जाना जाता है |

10. 10 लुप्त होने वाले पशु पक्षियों के नाम लिखिए ?

उत्तर – आज पर्यावरण को प्रदूषित होने के कारण गिद्ध गुलाबी सिर वाला बत्तख हारा चीता श्वेत सारस पर्वतीय बटेर धूसर बगुला सफेद बाल पक्षी विलुप्त होने वाले पशु पक्षी है |

bihar board 10th class geography van evam vanya prani sansadhan notes

11. वन्यजीवों के हॉर्स में प्रदूषण जनित समस्याओं पर अपना विचार स्पष्ट करें ?

उत्तर – जनसंख्या वृद्धि के कारण दोनों का व्यापक पैमाने पर दोहन हुआ है ! जिससे प्रदूषण तेजी से बढ़ गया है ! बढ़ते प्रदूषण के कारण पौधे वनस्पतियों जीव जंतु पर व्यापक असर पड़ा है ! और बहुत सारे जीव जंतु इस पृथ्वी पर जीवन को संतुलित रखने में असमर्थ हो गए हैं ! जिसके कारण वह विलुप्त हो जा रहे हैं ! अगर ऐसी ही स्थिति रही तो आने वाले समय में प्राणी जगत खतरे से घिर जाएगा और पृथ्वी सुनसान हो जाएगी |

12. भारत के दो प्रमुख जैवमंडल क्षेत्र का नाम क्षेत्रफल एवं राज्यों का नाम बताएं ?

उत्तर – भारत में बहुत सारे जैवमंड क्षेत्र है ! जिनमें दो निम्नलिखित है ! जो इस प्रकार से है –

क. नीलगिरी :- यह जैवमंडल क्षेत्र 5520KM क्षेत्र में फैला हुआ है ! इसमें तमिलनाडु केरल कर्नाटक राज्यों के हिस्से आते है |

ख. नन्दा देवी :- यह 2236.74 वर्ग किलो मीटर में फैला हुआ है ! यह सम्पूर्ण क्षेत्र उत्तराखंड राज्य के चमौली पिथोड़गढ़ और अल्मोरा जिले का भाग है |

13. वन एवं वन्य जीवो के महत्व का विस्तार से वर्णन कीजिए ?

उत्तर – वन्य एवं वन्य प्राणी मानव जीवन के प्रमुख हमसफर है ! वन पुथ्वी के लिए सुरक्षा कवच जैसा है ! वन एवं वन्य प्राणी मानव के लिए प्रतिस्थापित होने वाले संसाधन है ! यह इस जीवमंडल में सभी जीवो को संतुलित स्थिति में जीने के लिए अथवा संतुलित पारिस्थिति  तंत्र के निर्माण में सर्वाधिक योगदान देते है ! क्योकि सभी जीवो के लिए खाद्य ऊर्जा के प्राम्भिक ऊर्जा के स्रोत वनस्पति उर्जा के स्रोत वनस्पती ही है ! इस प्रकार वन एवं वन्य जीव का हमारे जीवन में विशेष महत्व है |

14. जैव विविधता क्या है” यह मानव के लिए क्यों महत्वपूर्ण है” विस्तार से लिखिए ?

उत्तर – वैसा भूमंडल जो हम सबों का आधार है ! तथा सूक्ष्म जीवाणुओं से लेकर वृक्षों और चीटियों से लेकर हाथी तथा ब्लू व्हेल तक करोड़ों जीवधारी यहां रहते ”हैं ! इसीको जैवविविधता कहते हैं ! जैव विविधता हमारे लिए भोजन औषिधि,, रबड़ और लकडियो का साधन है ! कई सूक्ष्म जीवो का उपयोग बहुमूल्य उत्पादन तैयार करने के लिए उद्योगों में प्रयोग होता है ! मानव के भोजन पुर्णतः जैविक संसार से प्राप्त होता है |

van avn vanya prani sansadhan question answer bihar board

15. विस्तार पूर्वक बताइए कि मानव क्रियाए किस प्रकार प्राकृतिक वनस्पति और प्राणी जात के हॉर्स के कारण है ?

उत्तर – मानव ने अपनी आवश्यकताओ की पूर्ति के लिए वन एवं वन्य जीवो को व्यापक पैमाने पर दोहन किया है ! जनसँख्या बढ़ने के कारण रेल मार्ग सडक निर्माण एवं औधोगिक विकास नगरीकरण ने वनस्पतियों एवं प्राणी जगत को तहस नहस कर दिया है ! वन्य जीवो की समान्य विधि तथा प्रजनन क्षमता में कमी आई है ! प्राणियों के अवैध शिकार एवं कालाबजारी ने प्राणी जगत को बहुत नुक्सान पहुचाया है ! जिसके कारण कई प्रजातियाँ संकट ग्रस्त हो चुकी है ! इस प्रकार से ये सभी मानव क्रियाए प्राकृतिक वनस्पति एवं प्राणी जगत के ह्रास के कारण है |

16. भारतीय जैव मंडल क्षेत्रों की चर्चा विस्तार से कीजिए ?

उत्तर – भारतीय जैवमंडल का क्षेत्र बहुत ही विस्तुत है ! यहाँ पर करीब 68 करोड़ हेक्टेयर भूमि पर वन का विस्तार है ! हमारे देश में 81 हजार वन्य प्राणी उपजातिया और लगभग 47 हजार वनस्पति उपजातिया पायी जाती है ! इसी के कारण भारत में 85 राष्ट्रिय उधान एवं 448 बिहार क्षेत्र बनाए गए थे” भारत के लगभग 21 राज्यों में राष्ट्रीय  उधान तथा अभ्यारण्य है ! सबसे अधिक राष्ट्रिय उधान मध्यप्रदेश कर्नाटक राज्यस्थान गुजरात इत्यादि राज्य में है ! इस तरह भारतीय जैवमंडल की विस्तार की अनुपय व्याख्या प्रस्तुत किया गया है |

Class 10th Geography Subjective Notes – भूगोल
पाठ – 1भारत : संसाधन एवं उपयोग
पाठ – 1Aप्राकृतिक संसाधन
पाठ – 1Bजल संसाधन
पाठ – 1Cवन एवं वन्य प्राणी संसाधन
पाठ – 1Dखनिज संसाधन
पाठ – 1Eशक्ति (ऊर्जा) संसाधन
पाठ – 2कृषि
पाठ – 3निर्माण उद्योग
पाठ – 4परिवहन, संचार एवं व्यापार
पाठ – 5बिहार : कृषि एवं वन संसाधन
पाठ – 5Aबिहार : खनिज एवं ऊर्जा संसाधन
पाठ – 5Bबिहार : उद्योग एवं परिवहन
पाठ – 5Cबिहार : जनसंख्या एवं नगरीकरण
पाठ – 6मानचित्र अध्ययन
पाठ – 7आपदा प्रबंधन
Rate this post

Leave a Comment