Khanij Sansadhan Notes | Bseb Class 10 Geography खनिज संसाधन

khanij sansadhan notes class 10 bihar board, Bihar Board Class 10 Geography खनिज संसाधन Notes, खनिज संसाधन class 10 pdf, खनिज तथा ऊर्जा संसाधन class 10 question answer, खनिज तथा संसाधन mcq, bseb 10th class geography khanij sanadhan notes in hindi, खनिज संसाधन के प्रश्न उत्तर

Bihar Board Class 10th Geography Chapter 1D Khanij Sansadhan – खनिज संसाधन Notes

पाठ – 1D : खनिज संसाधन

1. खनिज क्या है ?

उत्तर – निश्चित रासायनिक संयोजन एवं विशिष्ट आंतरिक प्रामाणिक संरचना वाले ठोस प्राकृतिक पदार्थ को खनिज कहा जाता है |

2. खनिज कितने प्रकार के होते हैं ! विस्तार से वर्णन करें ?

उत्तर – खनिज मुख्यतः दो प्रकार के होते हैं –

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Facebook Group Join Now

क. धात्विक खनिज :- ऐसा खनिज जिसमें धातु होता है ! उसे हम धात्विक खनिज कहते हैं | जैसे – लोहा अयस्क मैंग्नीज

ख. लोह युक्त खनिज :- ऐसा खनिज जिसमें लोहे का अंस पाया जाता है ! उसे लोह युक्त खनिज कहते हैं |  जैसे – मैंग्नीज

ग. अलौह युक्त खनिज :- ऐसा खनिज  जिसमें लोहा की मात्रा नही पाई जाती है ! या निम्न होती है ! उसे अलौह युक्त खनिज कहते हैं |

घ. अधात्विक खनिज :- ऐसा खनिज  जिसमे धातु की मात्रा नहीं पाई जाती है” उसे अधात्विक खनिज कहते हैं |

ङ. कार्बनिक खनिज :- ऐसा खनिज जिसमें जीवासम होते हैं ! और पृथ्वी में दबे प्राणी एवं पादप जीवो के परिवर्तित होने से बनते हैं ! उसे कार्बनिक खनिज कहते हैं |

च. अकार्बनिक खनिज :- ऐसा खनिज  जिसमें जीवासम नहीं पाए जाते हैं ! उसे अकार्बनिक खनिज कहते हैं | जैसे – अभ्रक,, ग्रेफाइट

3. धात्विक खनिज और अधात्विक खनिज में अंतर स्पष्ट करें ?

उत्तर – धात्विक खनिज और अधात्विक खनिज में निम्नलिखित अंतर है ! जो इस प्रकार से है –

क. धात्विक खनिज :- धात्विक खनिजों गलाने पर धातु प्राप्त होता है ! यह कठोर एवं चमकीले होते हैं ! इनको पीटने पर टन टन की आवाज आती है ! यह पीटने पर नहीं टूटता है ! इन्हें पीटकर तार बनाया जा सकता है |

ख. अधात्विक खनिज :- जबकि इसको गलाने पर धातु प्राप्त नहीं हो सकता है ! इसमें अपनी चमक होती है ! इसको पीटने पर धम-धम की आवाज आती है ! जबकि यह पीटने पर चूर-चूर हो जाता है ! और इनको पिट कर तार नही बनाया जा सकता है |

4. खनिज की विशेषताओं का उल्लेख कीजिए ?

उत्तर – खनिज की सबसे बड़ी विशेषता यह है ! कि विभिन्न गुणों से संपन्न होता है ! इसकी मात्रा सीमित है ! जिसको संरक्षण करने की आवश्यकता है |

Bihar Board Class 10 Geography खनिज संसाधन Notes

5. लौह अयस्क के प्रकार के नाम लिखे ?

उत्तर – लौह अयस्क तीन प्रकार के होते हैं ! जो इस प्रकार से है –

क.  हेमाटाइट :- इसका दूसरा नाम लाल अयस्क भी है ! जिसमें 68% लोहे के अंश पाया जाता है |

ख. मैग्नेटाइट :- इसका दूसरा नाम काला अयसक भी है ! जिसमें 60% लोहे का पाया जाता है |

ग.  लिमोनाइट :- इसका दूसरा नाम पिला अयस्क भी है ! जिसमें 40% लोहे का अंश पाया जाता है |

6. लोहे के प्रमुख उत्पादक राज्यों के नाम लिखिए ?

उत्तर – लोहे के प्रमुख उत्पादक राज्यों के नाम इस प्रकार से है –
. कर्नाटक
. छत्तीसगढ़
. उड़ीसा
. महाराष्ट्र
. गोवा
. झारखंड
. आंध्र प्रदेश

7. झारखंड के मुख्य लौह उत्पादक जिलों के नाम लिखिए ?

उत्तर – झारखंड के मुख्य लौह उत्पादक जिलों के नाम इस प्रकार से है – पूर्वी तथा पश्चिमी सिंहभूम पलामू हजारीबाग रांची इत्यादि |

8. मैंगनीज के उपयोग पर प्रकाश डालें ?

उत्तर – मैगनीज उत्पादन में भारत का विश्व में तीसरा स्थान है ! इसका उपयोग मुख्य रूप से जंगरोधी इस्पात बनाने में शुष्क बैटरीओं के निर्माण में फोटोग्राफी चमड़ा उद्योग में माचिस उद्योग में पेंट तथा कीटनाशक दवाओं के निर्माण में किया जाता है |

9. एलमुनियम के उपयोग का उल्लेख करें ?

उत्तर – एलमुनियम एक अलौह धातु है ! जिसका उपयोग वायुयान निर्माण विद्युत उपकरण बर्तन निर्माण सफेद सीमेंट का निर्माण तथा रासायनिक वस्तुओं को बनाने में किया जाता है |

10. अभ्रक का उपयोग क्या है ?

उत्तर – अभ्रक का उपयोग प्राचीन काल से ही आयुर्वेदिक दवाओं के निर्माण में किया जाता है ! वर्तमान में यह अत्यधिक विधुत रोधी होने के कारण विधुत उपकरण के निर्माण में किया जाता है |

11. चूना पत्थर का क्या उपयोगिता है ?

उत्तर – भारत में चुना पत्थर का विशाल भंडार है ! जिसका 76% भाग सीमेंट निर्माण में तथा 16% लौह तथा स्टील के निर्माण में 4% शेष रासायनिक उधोग में उर्वरक कागज़ तथा चीनी उधोग में उपयोग किया जाता है |

khanij sansadhan question answer in hindi bihar board

12. खनिजों के संरक्षण एवं प्रबंधन से आप क्या समझते हैं ?

उत्तर – खनिजों के संरक्षण एवं प्रबंधन का मतलब इनका सुनियोजित उपयोग करना है ! क्योंकि यह समाप्त होने वाला संसाधन है ! जिसके ऊपर किसी भी अर्थव्यवस्था का विकास निर्भर करता है |

13. भारत की खनिज पेटियों  का नाम लिखकर किन्ही दो का वर्णन कीजिए ?

उत्तर – भारत की भूगर्भीय संरचनाओं के अनुसार खनिजों को तीन भागों में बांटा गया है ! उपरोक्त तीन पेटियों में से दो पेटियों का वर्णन निम्नलिखित प्रकार से है –

क. उत्तरी पूर्वी पठार :- देश का सबसे धनी खनिज पेटी  है ! जो छोटा नगर का पठार छत्तीसगढ़ का पठार उड़ीसा का पठार तथा मध्य प्रदेश का पठार में फैला हुआ है ! जिसमें मुख्य रूप से लौह अयस्क मैगनीज चूना पत्थर तथा यूरेनियम जैसे खनिजो का विशाल भंडार है |

ख. दक्षिण पश्चिम पठार :- खनिज का यह पेटी कर्नाटक के पठार से लेकर तमिलनाडु के पठार तक फैला हुआ है ! जिसमें देश की सबसे बड़ी सोने की खान पाई जाती है |

14. भारत में लौह अयस्क के वितरण पर प्रकाश डालिए ?

उत्तर – लोहा उत्पादन की दृष्टि से भारत का विश्व में  चौथा स्थान है ! जिसको आधुनिक सभ्यता का दिढ़ तथा उधोगो का जननी कहा जाता है ! जो खानों से लौह अयस्क के रूप में ही प्राप्त होता है ! जो हमारे देश के विभिन्न राज्यों में अलग अलग भंडार के रूप में फैला हुआ है ! जिनका विवरण इस प्रकार है –

क.  कर्नाटक :- यहाँ से देश के कुल अयस्क का 25% भाग कर्नाटक से प्राप्त किया जाता है |

ख.  छत्तीसगढ़ :- यहां से देश के 20% लौह अयस्क प्राप्त होते हैं ! जो जापान को निर्यात किया जाता है |

ग.  उड़ीसा :- यहां से देश का 19% लौह अयस्क प्राप्त किया जाता है |

घ.  गोवा :- यहां से देश का 16% लौह अयस्क प्राप्त होता है |

ङ.  झारखंड :- यहाँ से देश का 15% लोहे अयस्क प्राप्त होता है ! शेष लौह अयस्क महाराष्ट्र आंध्रप्रदेश तमिलनाडु में पाया जाता है |

15. मैगनीज अथवा बॉक्साइट की उपयोगिता तथा देश में इनके वितरण का वर्णन कीजिए ?

उत्तर – मैगनीज उत्पादन में भारत का विश्व में तीसरा स्थान है ! इसका उपयोग मुख्य रूप से जंगरोधी इस्पात बनाने में शुष्क बैटरीओं के निर्माण में फोटोग्राफी चमड़ा उद्योग माचिस पेंट तथा कीटनाशक दवाओं के निर्माण में किया जाता है ! भारत में मैंगनीज का संचित भंडार 1670 लाख टन है ! जो अलग – अलग राज्यों में फैला हुआ है |

क. उड़ीसा :- उड़ीसा मैग्नीज उत्पादन में भारत का प्रथम राज्य है ! यहाँ पर देश के 37% मैगनीज पाया जाता है |

ख. महाराष्ट्र :- यहाँ पर कुल भंडार का 25% भाग उपलब्ध है |

ग. आंध्र प्रदेश :- इस राज्य में देश का 6% ही मैग्नीज का उत्पादन होता है ! बाकी का शेष कर्नाटक में पाया जाता है |

घ. बॉक्साइट :- बॉक्साइट एक अलौह धातु निक्षेप है ! जिसे अल्मुनियम नामक धातु निकाली जाती है ! हमारे देश में बॉक्साइट का इतना भंडार है ! कि अल्मुनियम में हम आत्मनिर्भर हो सकते हैं ! बॉक्साइट का बहुमुखी उपयोग वायुयान निर्माण विद्युत उपकरण निर्माण घरेलू सामान का निर्माण बर्तन बनाने तथा रासायनिक वस्तुएं बनाने में किया जाता है |

ncert class 10th bhugol khanij sansadhan subjective notes bihar board

16. भारत में बॉक्साइट का वितरण वर्णन करे ?

उत्तर – बॉक्साइट भारत के अनेक क्षेत्रों में मिलता है ! भारत में इसका अनुमानित भंडार 3037 मिलियन टन है ! मुख्य रूप से इनका भंडार उड़ीसा गुजरात झारखंड महाराष्ट्र छत्तीसगढ़ कर्नाटक तमिलनाडु एवं उत्तर प्रदेश में अवस्थित है ! उड़ीसा भारत के कुल उत्पादन का 42% बॉक्साइट उत्पादन करता है |

17. बॉक्साइट वितरण के राज्यों निम्नलिखित है ?

क. गुजरात :- भारत का 17.35% बॉक्साइट उत्पादन करके दुसरे स्थान पर है ! जामनगर कैरा सबर कंठ तथा सुरत महत्वपूर्ण उत्पादक जिले है |

ख. झारखंड :- बॉक्साइट के उत्पादन में तीसरा स्थान रखता है ! तथा देश का 14% बॉक्साइट उत्पादन करता है ! लोहार दाग रांची लातेहार एवं पलामू मुख्य उत्पादक जिले है |

ग. महाराष्ट्र :- महाराष्ट्र के कोलंबा रत्नागिरी तथा कोल्हापुर जिले में बॉक्साइट का खनन होता है ! तथा देश का 18% उत्पादन करता है |

घ. छत्तीसगढ़ :- यह देश का 6% से अधिक बॉक्साइट का उत्पादन करता है ! सरगुजा का पठारी प्रदेश रायगढ़ तथा बिलासपुर जिले में इसके उत्पादन किया जाता है |

18. अभ्रक की उपयोगिता एवं वितरण पर प्रकाश डालिए ?

उत्तर – अभ्रक का उपयोग आयुर्वेदिक दवाओं से लेकर विद्युत उपकरण रंग अबीर जैसे पदार्थों में किया जाता है ! भारत में अभ्रक का उत्पादन मुख्य रूप से बिहार झारखंड आंध्र प्रदेश तथा राजस्थान से प्राप्त किया जाता है ! विश्व का सबसे ऊंच किस्म का अभ्रक का उत्पादन भारत में ही होता है ! जिसे संयुक्त राज्य अमेरिका मंगा लेता है |

19. खनिज के संरक्षण का उपाय समझाइए ?

उत्तर – खनिज अनिविकरणीय क्षयशील तथा समाप्त संसाधन है ! जिसके ऊपर औधोगिक विकाश निर्भर करता है ! इसलिए आवश्यक है ! खनिजो का उपयोग सतत विकास की अवधारणा पर हो साथ साथ खनिजो का पूर्ण संरक्षण भी हो सके” जिसके लिए वैकल्पिक श्रोतो को ढूढना आवश्यक है ! इसलिए हमे निम्नांकित तीन बातो पर ध्यान देना चाहिए |
. खनिजो का निरंतर
. खनिजो का बचत पूर्वक उपयोग
. कच्चे माल के रूप में सस्ते विकल्पों की तलाश

Class 10th Geography Subjective Notes – भूगोल
पाठ – 1भारत : संसाधन एवं उपयोग
पाठ – 1Aप्राकृतिक संसाधन
पाठ – 1Bजल संसाधन
पाठ – 1Cवन एवं वन्य प्राणी संसाधन
पाठ – 1Dखनिज संसाधन
पाठ – 1Eशक्ति (ऊर्जा) संसाधन
पाठ – 2कृषि
पाठ – 3निर्माण उद्योग
पाठ – 4परिवहन, संचार एवं व्यापार
पाठ – 5बिहार : कृषि एवं वन संसाधन
पाठ – 5Aबिहार : खनिज एवं ऊर्जा संसाधन
पाठ – 5Bबिहार : उद्योग एवं परिवहन
पाठ – 5Cबिहार : जनसंख्या एवं नगरीकरण
पाठ – 6मानचित्र अध्ययन
पाठ – 7आपदा प्रबंधन
Rate this post

Leave a Comment