Dhate Vishwas Question Answer । Bseb Class 10 Hindi ढहते विश्वास

Dhate Vishwas Question Answer in hindi, ढहते विश्वास’ कहानी subjective, ढहते विश्वास’ कहानी pdf, ढहते विश्वास | पाठ -2 | SUBJECTIVE QUESTION – वर्णिका भाग 2, Bihar Board Class 10 Hindi ढहते विश्वास, Bihar Board Class 10 Hindi वर्णिका Chapter 2 ढहते विश्वास, bihar board class 10 hindi | ढहते विश्वास, Class 10th Hindi Dhate Vishwas Subjective Question Answer, class 10th dhate Vishwas ka prshn uttr in hindi, dhahte vishwas kahani ka question answer in hindi

Bihar Board Class 10th Hindi वर्णिका Chapter 2 Dhate Vishwas – ढहते विश्वास Question Answer

पाठ – 2 : ढहते विश्वास
लेखक –  सातकोड़ी होता
जन्म –  29 अक्टूबर 1929 में 

1. लक्ष्मी कौन थी ? उसकी पारिवारिक परिस्थिति का चित्र प्रस्तुत कीजिए ?

उत्तर  लक्ष्मी ढहते विश्वास कहानी के प्रमुख पात्र है ! इसके पति का नाम लक्ष्मण है ! यह कलकत्ते में नौकरी करते थे ! इनकी नौकरी से घर का भरण – पोषण पूर्ण रूप से नहीं होता है ! जिसके कारण लक्ष्मी एक तहसीलदार के घर – छोटे मोटे काम करके घर का भरण – पोषण करती है ! तथा पूर्वजो के द्वारा एक काठा खेत छोड़ के जाने के कारण वह खेत में भी काम करती है ! और अपने घर का भरन – पोषण करती है ! तेज वर्ष होने के कारण उसको यह चिंता सताती रहती है ! की कही गाँव में बाढ़ ना आ जाये |

2. कहानी के आधार पर प्रमाणित करें कि उड़ीसा का जन-जीवन बाढ़ और सूखा से काफी प्रभावित रहा है ?

उत्तर  उड़ीसा का भौगोलिक स्थिति ऐसा है ! कि वहां पर आए दिन बाढ़ और सूखा होता है ! प्रकृति की विपताई  उड़ीसा के लिए होता है ! उड़ीसा में बहुत सारी नदियां है ! जिसमें एक देवी नदी पर एक भले ही बांध बांधा हुआ है ! लेकिन उड़ीसा के पूरा गांव बाढ़ की चपेट में आ जाता है ! लोग ऊंचे स्थानों पर अपना आश्रय लेते हैं ! वहां लोग जीवन मौत से जूझने लगते हैं ! फिर भी लोगों में अपनी मातृभूमि से बहुत प्रेम रहता है ! जिसके कारण वह उसे छोड़ना नहीं चाहते ! उस क्षेत्र के लोग बाढ़ और सुधार से परिचित हो गए हैं ! धीरे – धीरे बाढ़ समाप्त हो जाती है ! लेकिन उसकी त्रासदी लोगो को आज भी सहनी पड़ती है |

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Facebook Group Join Now

ढहते विश्वास’ कहानी subjective

3. कहानी के शीर्षक की सार्थकता पर विचार करें ?

उत्तर  इस कहानी का शीर्षक कहानी के मुख्य चरित्र से जुड़ा हुआ है ! पूरी कहानी में लक्ष्मी के व्यक्तित्व की वर्णन किया गया है ! मेहनत करने वाली लक्ष्मी पति से दूर रहकर भी अपना भरण पोषण कर लेती है ! देवी नदी के किनारे उसका घर होता है ! लेकिन अति वर्षा के कारण उसके गांव में पानी प्रवेश कर जाता है ! और आत्मविश्वास में लक्ष्मी ऐसी परिस्थिति के सामना करती है ! इस कहानी का शीर्षक सार्थक सही है ! थोड़ी देर के लिए लक्ष्मी का विश्वास ढहता महसूस होता है ! क्योंकि ऐसी परिस्थिति को समझने के लिए उसके पति भी उस समय नहीं थे ! जिसके कारण लक्ष्मी का विश्वास डगमगा जाता है ! इसी कारण से लेखक ने इस कहानी का शीर्षक ढहते विश्वास रखा है |

4. लक्ष्मी के व्यक्तित्व पर विचार करें ?

उत्तर लक्ष्मी प्रस्तुत कहानी की प्रधान नायिका है ! यह एक नारी का जो रूप होना चाहिए ! वह लक्ष्मी में झलकता है ! जीवन रूपी पथ को एक चक्र होने वाली पत्नी का सही रूप लक्ष्मी धारण करती है ! पत्नी पति के बाहर जाने पर भी वो अपने घर के पूरे काम को संभाल लेती है ! गांव में आई आपदा के कारण लक्ष्मी का विश्वास थोड़े समय के लिए डगमगाने लगता है ! परंतु यह तो विधि का विधान है ! इसे कौन टाल सकता है ! अचानक गांव में बाढ़ का पानी आ जाता है ! और सब कुछ तबाह कर देता है ! परंतु लक्ष्मी एक सही नारी का रूप धारण करके अपने बाल बच्चे के साथ ऊंचा स्थान की ओर दौड़ती है !

किंतु पैर में ठेस लगने के वजह से वह रुक जाती है ! तथा अपनी दोनों बेटियों को आगे जाने का आदेश देती है ! तब तक बाढ़ का सैलाब इसके करीब आ जाता है ! लक्ष्मी बरगद के पेड़ के सहारा लेना चाहती है ! और उसी में उसका छोटा बेटा बाढ़ के सैलाब में बह जाता है ! इतना कुछ होने के बावजूद भी लक्ष्मी एक अन्य छोटे से बालक को दूध पिलाती है ! जिससे उसके अंदर एक सही मातृत्व का प्रेम उमड़ता है |

Dhate Vishwas | Dhahte vishvash question asnwer in hindi

5. बिहार का जनजीवन भी बाढ़ और सूखा से प्रभावित होता रहा है। इस संबंध में आप क्या सोचते हैं ? लिखें |

उत्तर  बिहार की भौगोलिक स्थिति कि यहां बाढ़ और सुखाड़ दोनों होता है ! उत्तरी बिहार और दक्षिणी बिहार की कुछ ऐसी नदिया है ! जो हमेशा बरसात में उफान रूप ले लेती है ! यह नदियां हिमालय पर्वत से निकलती है ! और बिहार के मैदानी भागों को तबाह कर देती है ! जिससे फसल और जान-माल की काफी छती होती है ! बाढ़ और सूखा जैसा जीवन जीना हम बिहार वासियों के लिए एक आम बात हो गया है ! कुछ राजनेता इनके दुख दर्द को बांटने की बजाय राजनीति खेल शुरू कर लेते हैं ! परंतु बिहार की अभिशाप है ! कि इस पर कोई कड़ा फैसला नहीं हो पाता है |

S.NClass 10th Hindi Subjective ( गद्य खण्ड )
पाठ – 1श्रम विभाजन और जाति प्रथा (निबंध)
पाठ – 2विष के दाँत (कहानी)
पाठ – 3भारत से हम क्या सीखें (भाषण)
पाठ – 4नाखून क्यों बढ़ते हैं (ललित निबंध)
पाठ – 5नागरी लिपि (निबंध)
पाठ – 6बहादुर (कहानी)
पाठ – 7परंपरा का मूल्यांकन (निबंध)
पाठ – 8जित-जित मैं निरखत हूँ (साक्षात्कार)
पाठ – 9आविन्यों (ललित रचना)
पाठ – 10मछली (कहानी)
पाठ – 11नौबतखाने में इबादत (व्यक्ति-चित्र)
पाठ – 12शिक्षा और संस्कृति (शिक्षा-शास्त्र)
Rate this post

Leave a Comment