Aalas katha notes | Bseb Class 10 Sanskrit आलसकथा Subjective

aalas katha notes, Bseb Class 10 Sanskrit आलसकथा Subjective, Class 10th Sanskrit Ncert Solutions Chapter 3 – aalas katha, Bihar board class 10 sanskrit Solution chapter 3 अलसकथा, Bihar Board Class 10 Sanskrit Chapter 3 अलसकथा Solution, bihar board class 10 sanskrit aalas katha question answer, aalas katha notes class 10th sanskrit in hindi,

Bihar Board Class 10th Sanskrit Chapter 3 aalas katha – आलसकथा

Chapter – 3 आलसकथा

1. आलसकथा पाठ के लेखक विधापति जी है |
2. विधाप्ति मैथिल कवी है |
3. आलस कथा पुरुष परीक्षा नामक ग्रन्थ से लिया गया है |
4. आलस कथा पाठ में मानव के दोष पर व्यंग किया गया है |
5. नीतिकार आलस्य को शत्रु मानते है |
6. वीरेश्वर मिथिला का मंत्री था |
7. वीरेश्वर स्वभाव का दानशील एवं कारुणिक था |
8. आलसी पुरुष चार थे |
9. आलसियों की पहचान के लिए आलस कथा में आग लगाई
10. आग को देखकर सभी धूर्त पलायन हो गए थे |
11. वीरेश्वर लोगो को इच्छा भोजन एवं वस्त्र दान करता था |
12. चारो आलसियों को योगी पुरुष ने केस पकड़ कर अलस्षा से बाहर किया |
13. जिस प्रकार बालक की गति स्त्री के बिना संभव नहीं ठीक उसी प्रकार आल्सिक की गति कारुणिक लोगो के बिना संभव नहीं

Bseb Class 10 Sanskrit आलसकथा Subjective

पाठ के साथ

1. आग लगने के बाद आलसियों ने क्या कहा ?

उत्तर – यह कैसा कोलाहल है | लगता है की किसी ने आग लगा दी यहाँ आस पास कोई धर्मिक पुरुष नहीं है जो हमारे ऊपर जल या कपडा डाल दे और बचा ले कितना बोलते आदि कहा | moviezwap

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Facebook Group Join Now

2. आलस कथा पाठ का वर्णन करे ?

उत्तर – इस पाठ के लेखक मैथिल कवी विधापति जी है ! यह पाठ पुरुष परीक्षा नामक ग्रन्थ से लिया गया है ! इस पाठ में मानव के दोस को व्यंग्यात्मक रूप से वर्णित किया गया है ! इसमें बताया गया है की आलसी लोगो का जीवन आरुणिक लोगो की वजह से ही चल पाता है ! इस पाठ में आलस्य को शत्रु बताया गया है | The Vaccine War

3. वीरेश्वर कौन था और उसका स्वभाव कैसा था ?

उत्तर – वीरेश्वर मिथिला का मंत्री था ! वह स्वभाव का दानशील एवं कारुणिक था ! वह लोगो को इक्षा भोजन करवाता एवं वस्त्र दान करता था |

4. विधापति जी के बारे में आप क्या जानते है ?

उत्तर – विधापति जी मैथिलि भाषा के एक महान कवी है ! इसे मैथिल कोकिला के नाम से भी जाना जाता है ! विधापति जी ने मैथिलि भाषा के साथ – साथ संस्कृति भाषा में भी कई कवितायेँ लिखी है |

आलसकथा Class 10

5. वास्तव में आलसी पुरुष कितने थे ‘’ इनकी पहचान कैसे की गई ?

उत्तर – वास्तव में आलसी पुरुष केवल चार ही थे इसकी पहचान के लिए आलसशाळा में आग लगा दी गई थी |

6. आलसियों को कैसे बचाया गया ?

उत्तर – आलसशाळा में आग लगा दी तो चार आलसी पुरुष आग को देखकर भी नहीं भागे तो योगी पुरुष ने उनके केस पकड़कर उन्हें आलसशाळा से बाहर किया | movierulz

7. नीतिकार आलस्य के बारे में क्या कहते है ?

उत्तर – नीतिकार आलस्य को सबसे बड़ा शत्रु मानते है |

8. आलसकथा पाठ से हमें क्या शिक्षा मिलती है ?

उत्तर – इस पाठ से हमें यह शिक्षा मिलती है | की आलसी लोगो का जीवन केवल कारुणिक लोगो की वजह से ही चल पाता है | कुछ लोग इतने आलसी होते है की सामने मौत भी देखकर आपना आलस्य नहीं त्यागते है | आलस्य को हमारा शत्रु बताया गया है | अतः हमें आलस्य को त्याग देना चाहिए | TARIQ

Alas katha Class 10 Sanskrit Chapter 3 bihar board

9. आलस कथा का सारांश लिखे ?

उत्तर – आलस कथा विधापति द्वारा रचित एक रोचक कहानी है ! इसमें कवि विधापति ने मिथिला राज्य का वर्णन किया है,, मिथिला के महा मंत्री वीरेश्वर नाथ जी थे,, वे अनाथो , गरीबो , आलसियों आदि को भोजन , वस्त्र और दान स्वरूप राशि प्रदान करते थे ! यह क्रिया नित्य होती थी ! अचानक राज – दरबार में काफी भीड़ होने लगा, आलसियों के साथ हष्ट – पुष्ट और स्वस्थ लोग भी आने लगे जिसके कारण राज कोष से अधिक धन – राशि कर्च होने लगी, उसी समय राज दरबार में मंत्री के साथ – साथ कुछ विद्वान उपस्थित थे ! विद्वानों ने वीरेश्वर जी को यह सलाह दिया की आलसियों की परीक्षा ली जाए,, परीक्षा के लिए भवन चयन किया गया,, जहाँ पर लोग भोजन के लिए उपस्थित होते थे, घर में आग लगा दी गई !

सारे धूर्त भाग गए,, मात्र चार ही व्यक्ति बच गए ! जो अभी भी आग लगने के बाद भी सो रहे थे ! एक ने कम्बल हटाते हुए कहा ! आरे यह कैसा हल्ला हो रहा है ! दुसरे ने कहा जिस घर में हम सोये हुए है है,, उस घर में आग लगी है ! तीसरे ने कहाँ कोई धर्मिक व्यक्ति नहीं है क्या जो आकर आग बुझा दे ! चौथे ने कहाँ ये वाचाल कितना बोलता है,, चल सो जा, कोई न कोई आकर जरुर निकालेगा, यह दृश्य एक सज्जन देख रहे थे,, सज्जन को लगा की ये चारो मर जाएंगे ! इसलिए सज्जन व्यक्ति ने चारो का बाल पकड़कर घसीटते हुए बाहर निकाला और मंत्री से कहा की आलसी दान के हकदार यही चारो है ! इसलिए चारो को काफी धन देकर विदा किया जाए,, इस तरह इन चारो को धन देकर विदा किया गया |

10. आलस कथा का क्या संदेश है,, आथवा आलस कथा पाठ में किस पर चर्चा की गई है ?

उत्तर – आलस कथा का संदेश यह है,, की आलस एक महान रोग है,, जीवन में विकास के लिए व्यक्ति को कर्मठ होना आवश्यक है,, आलस शरीर में रहने वाला महान शत्रु है,, जिससे अपने परिवार का और समाज का विनाश अवश्य ही होता है |

11. आलस कथा पाठ का पांच वाक्यों में परिचय दे ?

उत्तर – यह पाठ विधापति द्वारा रचित पुरुष परीक्षा नामक कथा ग्रन्थ से लिया गया है,, इस कथा को कवी विधापति ने मैथिलि तथा संस्कृत भाषाओं में रचना की थी, पुरुष परीक्षा में धर्म, अर्थ काम आदि विषयों से संवृद्ध अनेक मनोरंजक कथाएँ दी गई है,, आलस कथा में आलस के निवारण की प्रेरणा दी गई है,, इस पाठ से संसार की विचित्र गतिविधि का भी परिचय मिलता है |

Alaskatha notes in hindi – आलसकथा नोट्स इन हिंदी 
12. चारो आलसी पुरुष आग से किस प्रकार बचना चाहते थे ?

उत्तर – चारो आलसी पुरुष आग लगने पर भी घर से नहीं भागे | वे शोरगुल सुनकर जान गए थे,, की घर में आग लगी हुई है,, वे चाहते थे की कोई धार्मिक एवं दयालु व्यक्ति आकर आग पर जल वस्त्र या कम्बल डाल दे,, जिससे आग बुझ जाए और हमलोग बच जाए

13. आलसकथा पाठ के आधार पर बताइए की आलसी पुरुषो को किसने और क्यों निकाला ?

उत्तर – आलसी पुरुष जब आग में जलने लगे तो प्रबन्धन के सदस्यों में से एक सज्जन व्यक्ति ने उन्हें आग से निकाला,, उन्होंने देखा की प्रचंड आग से घर जल रहा है,, किन्तु यह चार आलसी भागने का कोई प्रयास नहीं कर रहे है,, तो ऐसा लगा की अब यह लोग जल जायेंगे,, अतः उन्हें जलने से बचाने के लिए वे आलसियों को बाहर निकाले |

S.NClass 10th Sanskrit Subjective Notes
पाठ – 1मङ्गलम्
पाठ – 2पाटलिपुत्रवैभवम्
पाठ – 3अलसकथा
पाठ – 4संस्कृतसाहित्ये लेखिकाः
पाठ – 5भारतमहिमा
पाठ – 6भारतीयसंस्काराः
पाठ – 7नीतिश्लोकाः
पाठ – 8कर्मवीर कथाः
पाठ – 9स्वामी दयानन्दः
पाठ – 10मन्दाकिनीवर्णनम्
पाठ – 11व्याघ्रपथिक कथाः
पाठ – 12कर्णस्य दानवीरता
पाठ – 13विश्वशांतिः
पाठ – 14शास्त्रकाराः
Rate this post

Leave a Comment