Swami Dayanand Notes | Bseb Class 10 Sanskrit स्वामी दयानंदः

sawami dayanand question answer, Class 10th Sanskrit स्वामी दयानन्दः, Bihar board 10th Class Sanskrit Chapter 9 स्वामी दयानन्दः, Class 10th Sanskrit पाठ-9 स्वामी दयानन्दः Subjective, Swami dayanand class 10 sanskrit question answer bihar board,

Bihar Board Class 10th Sanskrit Chapter 9 Swami Dayanand – स्वामी दयानंदः

पाठ – 9 : स्वामी दयानंदः

1. स्वामी दयानंद पाठ का पांच वाक्यों में परिचय दे ?

उत्तर – 19 वीं शताब्दी में समाज सुधारको में स्वामी दयानंद काफी प्रसिद्ध है ! इन्होने रूढ़िग्रसित समाज और विकृत खराब धर्मिक व्यवस्था पर कठोर प्रहार करके आर्य समाज की स्थापना की जिसकी शाखाएँ देश – विदेश में शिक्षा सुधार के लिए भी प्रयत्नशील रही है ! शिक्षा व्यवस्था में गुरुकुल पद्धति का पुनर्द्वार करते हुए इन्होने आधुनिक शिक्षा के लिए DAB विधालय जैसी संस्थाओं की स्थापना को प्रेरित किया था ! इनकी जीवन चरित्र प्रस्तुत पाठ में संक्षिप्त रूप से दिया गया है |

2. स्वामी दयानंद समाज में महान उद्दार्क थे,, कैसे ? तीन वाक्यों में उत्तर दे ?

उत्तर –

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Facebook Group Join Now

3. स्वामी दयानंद मूर्ति पूजा के विरोधी कैसे बने ?

उत्तर – स्वामी दयानंद के माता – पिता भगवान शिव के उपासक थे ! महा शिवरात्री के दिन शिव – पार्वती की पूजा इनके परिवार में विशेष रूप से मनाई जाति थी ! एक बार महा शिवरात्रि के दिन इन्होने देखा की एक चूहा भगवान शंकर ! की मूर्ति के ऊपर चढ़कर उनपर चढाये हुए प्रसाद को कहा रहा है ! इससे उन्हें विशवास हो गया की मूर्ति में भगवान नहीं होते है ! इस प्रकार वे मूर्ति पूजा के विरोधी हो गए |

4. वैदिक धर्म के प्रचार के लिए स्वामी दयानंद ने क्या किया ?

उत्तर – वैदिक धर्म और सत्य के प्रचार के लिए स्वामी दयानंद ने अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया ! वेदों के प्रति सभी अनुयायियों का ध्यान आकर्षित करने के लिए उन्होंने वेदों के उपदेश को संस्कृत एवं हिंदी में लिखा |

S.NClass 10th Sanskrit Subjective Notes
पाठ – 1मङ्गलम्
पाठ – 2पाटलिपुत्रवैभवम्
पाठ – 3अलसकथा
पाठ – 4संस्कृतसाहित्ये लेखिकाः
पाठ – 5भारतमहिमा
पाठ – 6भारतीयसंस्काराः
पाठ – 7नीतिश्लोकाः
पाठ – 8कर्मवीर कथाः
पाठ – 9स्वामी दयानन्दः
पाठ – 10मन्दाकिनीवर्णनम्
पाठ – 11व्याघ्रपथिक कथाः
पाठ – 12कर्णस्य दानवीरता
पाठ – 13विश्वशांतिः
पाठ – 14शास्त्रकाराः
Rate this post

Leave a Comment