Niti Sloka Notes | Bseb Class 10 Sanskrit नीतिश्लोकाः

niti sloka class 10, bihar board class 10 sanskrit chapter 7, Class 10th Sanskrit chapter 7 Nitislok question answer, nitishlokah class 10 sanskrit bihar board, bseb class 10th Sanskrit Niti sloka ka Subjective question, नीति श्लोक in sanskrit class 10, नीति श्लोक अर्थ सहित class 10

Bihar Board Class 10th Sanskrit Chapter 7 Niti Sloka – नीतिश्लोकाः Subjective

पाठ – 7 नितिश्लोक

⌈ अर्थ स्पष्ट करे ⌋
1. यस्य कृत्यं न विध्नन्ति शीतमुष्णं भयंरतिः |
समृद्धि स्मुद्धिर्वा स वै पण्डित उच्यते ||

उत्तर – प्रस्तुत श्लोक में कवी महात्मा विदुर जी पंडित के लक्षणों पर प्रकाश डालते हुए कहते है ! की जिस व्यक्ति के सत्य कर्म में विध्न – बाधाएं नहीं आती है ! और गर्मी – सर्दी भय और प्रेम तथा समृद्धि एवं अस्म्रिद्धि सब में एक समान बना रहता है ! वही पंडित है |

2. तत्वज्ञ सर्वभूतानां योगज्ञ सर्वकर्मणाम् |
उपायज्ञो मनुष्याणां नरः पण्डित उच्यते ||

उत्तर – इस श्लोक में कवी विदुर जी कहते है ! की सभी प्राणियों में एक ही ब्रहात्व को देखने वाला और अपने जीवन के सभी सदभावो को पूर्ण करने के लिए सम्बन्धी उपायों को जानने वाला व्यक्ति ही पंडित कहलाता है |

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Facebook Group Join Now

3. अनाहूतः प्रविशाति अपृष्टो बहु भाषते |
अविश्वस्ते विश्वसिति मढचेता नराधमः ||

उत्तर – इस श्लोक में कवी विदुर जी कहते है ! की बिना बुलाए किसी के घर चले जाना और बिना पूछे बोलने लगना अविश्वासी व्यक्ति पर भरोसा कर लेना मुर्खता के ही नहीं , नीचता के भी लक्षण है |

नीति श्लोक in Sanskrit class 10

4. एको धर्म परं श्रेय क्षमैका शान्तिरुत्तमा |
विदयैका परमा तृप्तिः अहिन्सैका सुखावहाः ||

उत्तर – इस श्लोक के माध्यम से कवी विदुर जी कहते है ! की धर्म को धारण करने वाले व्यक्ति के लिए धर्म सर्वश्रेष्ट होता है ! और क्षमा को अपनाना शान्ति का प्रतीक होता है ! तथा विधा को प्राप्त करना परम तृप्ति का प्रतीक है ! और अहिंसा को अपनाना सभी सुखो का मूल्य है |

5. त्रिविधं नरकस्येदं द्वारं नाशनमात्मनः |
कामाः क्रोध् स्तथा लोभ्स्तस्मादेतत त्रयं त्यजेत् ||

उत्तर – इस श्लोक के माध्यम से कवी कहते है ! की काम, क्रोध, और लोभ इन तीनो को स्वयं का नाश का कारण बताया है ! और इन्हें त्याग देना चाहिए |

6. षड् दोषाः पुरुषेणेहः हातव्या भूतिमिचछता |
निन्द्रा भयं क्रोध् आलस्यं दीर्घसुत्र्ता ||

उत्तर – इस श्लोक में कवी विदुर जी कहते है ! की हमें अपने जीवन के छः दोषों से दूर रहना चाहिए, उसमे निंद्रा, यानी नींद , तन्द्रा यानी हर काम में पीछे रहना, भय , क्रोध, आलस तथा दीर्धसूत्रता यानी आज का काम कल पर छोड़ना इन सभी छः दोषों को मानव का पतन बताया गया है ! इसलिए ये सभी दोष मानव के शत्रु है ! इन्हें त्याग देना चाहिए,, नहीं तो नाश निश्चित है |

7. सत्येन रक्ष्यते धर्मो विद् या योगेन रक्ष्यते |
मृज्याः रक्ष्यते रूपं वृतेन रक्ष्यते ||

उत्तर – इस श्लोक में कवी विदुर जी कहते है ! की सत्य से धर्म की रक्षा होती है ! और अभ्यास से विधा की रक्षा होती है” और सजावट से रूप की रक्षा होती है” और अच्छे आचरण से कुल की रक्षा होती है |

8. सुलभाः पुरुषा राजन् सततं प्रियवादिनः |
अप्रियस्य तु पथ्यस्य वक्ता स्रोताः च दुर्लभः ||

उत्तर – इस श्लोक के माध्यम से कवी विदुर जी कहते है ! की इस संसार में चापलूसी करने वाले तो सरलता से मिल जाएंगे ! परन्तु कठोर और हितकारी वचन बोलने वाला व्यक्ति तथा उसे सुनने वाला स्रोत ये दोनों बड़ी मुश्किल से मिलते है |

9. पूजनीया महाभागा: पुण्याश्च गृहदिपतयः |
स्त्रियः श्रियो गृहस्योक्ता स्तरमाद्रक्ष्या विशेषतः ||

उत्तर – इस श्लोक में कवी विदुर जी कहते है ! की अपने सद्कर्मो से अपने घर को प्रकाशमान करने वाली महा भाग्यशाली लक्ष्मी रूपा स्र्तियाँ पूजनीय होती है ! इसलिए उनके लिए सुरक्षा का विशेष प्रबंध होना चाहिए |

Bihar Board Class 10 Sanskrit niti sloka question answer

10. अकीर्ति विनयो हन्ति हन्त्यनर्थ पराक्रम |
हन्ति नित्यं क्षमा क्रोध् माचारो हन्त्य लक्षणाम् ||

उत्तर – इस श्लोक में कवी विदुर जी कहते है ! की अपयश विनय को नाश करती है ! तथा अनर्थ पराक्रम को नाश करता है ! क्षमा क्रोध को नाश करता है ! और कुल्क्ष्ण अच्छे विचार को नाश कर देता है ! अतः इन सभी बुरी आदतों को त्याग कर देना चाहिए |

〈 पाठ के साथ 〉
1. नितिश्लोका पाठ में मूढ़चेतानराधम किसे कहा गया है ?

उत्तर – जिस व्यक्ति का स्वाभिमान मरा हुआ होता है ! जो बिना बुलाए किसी के यहाँ जाता है ! तथा बिना कुछ पूछे बक – बक करता है ! अविश्वसनीय पर विशवास कर लेता है ! ऐसे हृदय वाला व्यक्ति नीच होता है  ! अर्थात ऐसे ही व्यक्ति को नितिश्लोका पाठ में मूढ़चेतानराधम कहा गया है |

2. नितिश्लोका पाठ के आधार पर षड दोषों का हिंदी में वर्णन करे ?

उत्तर – मनुष्य के छः प्रकार के दोष निंद्रा, तन्द्रा, भय, क्रोध, आलस, तथा दिर्धसुत्रता, ऐश्वर्य प्राप्ति में बाधक बनने वाले होते है ! नीतिकार का कहना है ! की जिसमे ये दोष पाए जाते है ! वह चाहते हुए भी सुख की प्राप्ति नहीं कर सकता है ! क्योकि अधिक निंद्रा के कारण वह कोई काम समय पर नहीं कर पाता है ! तो तंद्रा वश हरन काम में पीछे रह जाता है ! और भय के कारण काम आरम्भ नहीं करता है ! तो क्रोध के कारण बना काम भी बिगाड़ता है ! इसी प्रकार आलस के कारण समय का दुरूपयोग होता है ! तो दीर्धसूत्रता आथवा काम को कल पर छोड़ने के कारण काम का बोझ बढ़ जाता है ! फलतः वह जीवन के हर क्षेत्र में पीछे रह जाता है |

3. नितिश्लोका पाठ के अनुसार कौन सा तीन चीज त्याज्य है ?

उत्तर – नितिश्लोका पाठ के अनुसार उन्नति की इच्छा रखने वाले मनुष्य को निंद्रा , क्रोध , आलस और काम टालने की आदत को भी सदा के लिए छोड़ देना चाहिए |

Niti sloka class 10 sanskrit chapter 7 bihar board

4. नरक जाने का द्वार कौन – कौन सा है ?

उत्तर – नरक जाने का तीन द्वार होते है ! काम, क्रोध, और लोभ ये तीनो रास्ते आसानी से नरक में पहुंचा देते है |

5. नितिश्लोका पाठ का परिचय पांच वाक्यों में दीजिए ?

उत्तर – इस पाठ में महाभारत युद्ध के आरम्भ में धृतराष्ट्र ने अपनी शान्ति के लिए विदुर से परामर्श किया था ! विदुर ने उन्हें स्वार्थ पर निति त्याग कर राजनीति के शाश्वत प्रामार्थिक उपदेश दिए थे ! इन्हें विदुर निति कहते है ! इन श्लोको में विदुर के अमूल्य उपदेश भरे हुए है |

S.NClass 10th Sanskrit Subjective Notes
पाठ – 1मङ्गलम्
पाठ – 2पाटलिपुत्रवैभवम्
पाठ – 3अलसकथा
पाठ – 4संस्कृतसाहित्ये लेखिकाः
पाठ – 5भारतमहिमा
पाठ – 6भारतीयसंस्काराः
पाठ – 7नीतिश्लोकाः
पाठ – 8कर्मवीर कथाः
पाठ – 9स्वामी दयानन्दः
पाठ – 10मन्दाकिनीवर्णनम्
पाठ – 11व्याघ्रपथिक कथाः
पाठ – 12कर्णस्य दानवीरता
पाठ – 13विश्वशांतिः
पाठ – 14शास्त्रकाराः
Rate this post

Leave a Comment