Hamara Paryavaran Notes | Bseb Class 10 Science हमारा पर्यावरण

Hamara Paryavaran Notes | Bseb Class 10 Science हमारा पर्यावरण, हमारा पर्यावरण प्रश्न उत्तर class 10, हमारा पर्यावरण कक्षा 10 ncert pdf, Hamara Paryavaran class 10 question answer, Bihar Board Class 10th विज्ञान चैप्टर 15 हमारा पर्यावरण, Bihar Board 10th class Biology Hamara Paryavaran, class 10th science Hamara Paryavaran subjective question 2023, Bihar Board Class 10th Hamara Paryavaran Subjective Question Answer

Bihar Board Class 10th Science Chapter 15 Hamara Paryavaran – हमारा पर्यावरण Subjective

पाठ – 16 प्राकृतिक संसाधनों का प्रबंधन

1. वन के महत्व को लिखे ?

उत्तर – वन के निम्नलिखित महत्व है –

. वन पर्यावरण के सुरक्षा के साथ –साथ मनुष्यों की मूल आवश्यकताओ जैसे – आवास , निर्माण समाग्री , ईंधन जल तथा भोजन का प्रत्यक्ष रूप में आपूर्ति करता है |

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Facebook Group Join Now

. पेड़ – पौधो की जेड मिट्टी के कणों को बाँध कर रखती है | जिससे तेज वर्षा तथा वायु के झोको से होने वाला भूमि अपरदन रुकता है | वन मिट्टी कटाव को रोकने में सहायक होता है |

. जल चक्र के पूर्ण होने में वनों का महत्वपूर्ण योगदान है |

. वनों द्वारा वर्षा की मात्रा में वृद्धि होती है |

. वनो से हमें पशुओ के लिए चारा , औषधि , रबर , तेल , फल आदि प्राप्त किया जाता है |

2. वनों के ह्रास के कारणों का उल्लेख करे ?

उत्तर – शाताब्दी से वन लगातार घटते जा रहे है | आदिकाल से वनवासी अपने आवास निर्माण तथा ईंधन के लिए वनों पर निर्भर करते है | लेकिन उस समय जनसँख्या में इनती वृद्धि नहीं थी | सवतंत्रता के बाद जनसँख्या में वृद्धि शहरीकरण औधोगिककरण तथा विकास के कार्य में लकड़ी की अत्यधिक वृद्धि हुई | और जिससे वनों की कटाई मनमाने ढंग से की जा रही है | जनसंख्या की वृद्धि के कारण खेती एवं मकान बनाने के लिए जलावन के लिए खनन कार्य के लिए तथा बांधो के निर्माण के लिए और जिसके कारण वनों को नुक्सान पहुंचाया जा रहा है | [ mkvcinemas ]

हमारा पर्यावरण प्रश्न उत्तर Class 10

3. भारत सरकार द्वारा वन प्रबंधक या वन संरक्षण के लिए किए गए प्रयासों का उल्लेख करे ?

उत्तर – भारत सरकार ने राष्ट्रिय वन निति बनाकर वन संरक्षण के निम्नलिखित प्रयास किए गए है –
. बचे हुए वन क्षेत्रो का संरक्षण
. वनों की कटाई को विकेकपूर्ण बनाना | इसके अंतर्गत वन में केवल उन्ही पदों के काटने की अनुमति दी जाती है | जो सुख गए है |
. बंजर तथा परती भूमि पर सहन वृक्षारोपण के कार्यक्रमों का संचालन
. स्वयं सेवी संस्थाओं को प्रोत्साहन देना

4. भारतीय स्वयंसेवी संस्थाएं द्वारा पर्यावरण से सम्बन्धित विशेष रूप से किए गए योगदान का उल्लेख करे ?

उत्तर – भारतीय स्वयंसेवी संस्थाएँ पर्यावरण से सम्बन्धित निम्नांकित क्षेत्रो में विशेष रूप से योगदान कर रही है –
. पर्यावरण जागरूकता
. वृक्षा रोपण तथा प्र्दुष्ण नियंत्रण
. जल प्रबंधन
. वन वासियों का आर्थिक और समाजिक विकास
. वन संरक्षण अर्थात चिपको आन्दोलन आदि

5. चिपको आन्दोलन से आप क्या समझते है ?

उत्तर – 1970 के दशक में गढवाल के पहाड़ो पर स्थित रेनिग्राम में इमारती लकड़ी के ठेकेदारो के हाथो वनों की विनाश रोकने के लिए स्थानीय स्त्रियों ने पदों से छिपकर एक जन आन्दोलन किया था | तीन सदी पूर्व राजस्थान के र्वेजरीग्राम में पदों से चिपक कर स्र्तियो के जान देने की घटना की याद में लोगो ने इस आन्दोलन को चिपको आन्दोलन का नाम डिया | इस आन्दोलन का समर्थक सुंदर लाल बहुगुणा और चंडी प्रसाद भट्ट जैसे लोगो ने किया |

6. टिहरी बाँध परियोजना क्या है’’ इस बांध के निर्माण का मुख्य उद्देश्य क्या है ?

उत्तर – टिहरी बांध का निर्माण उतरांचल के टिहरी जिले में भागीरथ तथा भिलागना नदियों के संगम के निचे गंगा नदी पर किया गया है | टिहरी बाँध के निर्माण का मुख्य उद्देश्य निम्नांकित है –
. बिजली के उत्पादन के लिए इस बांध का निर्माण किया गया है |
. दिल्ली महानगर को जल की आपूर्ति के लिए इस बांध का निर्माण किया गया है |
. पश्चिमी उत्तर प्रदेश के दो लाख सत्तर हजार हेक्टेयर भूमि की सिंचाई इस बाँध के द्वारा जल की आपूर्ति की जाती है |

7. टिहरी बाँध निर्माण से उत्पन्न पर्यावरणीय समस्याएं कौन सी है ?

उत्तर – टिहरी बाँध के निर्माण से उत्पन्न पर्यावरणीय समस्याएँ निम्नांकित है –

क. पुनर्वास की समस्याएँ :- टिहरी बांध के निर्माण के फलस्वरूप हजारो लोगो को पहाड़ी क्षेत्र से मैदानी क्षेत्र में निवास करना पड़ा | पर्वतीय लोगो को पहाड़ी क्षेत्र से मैदानी क्षेत्र में बसने से उनकी जीवन शैली में काफी परिवर्तन आया | जिससे उन लोगो को अनेक कठिनाइयो का सामना करना पड़ा | विस्थापितों को जल , लकड़ी , फल अपेक्षाकृत महंगे मिलने लगे | तथा सरकार द्वारा समुचित मुआवजा भी नहीं मिल पाया |

ख. सुरक्षा की समस्या :- चुनी टिहरी बाँध भूकंपीय दृष्टि से संवेदनाशील क्षेत्र में स्थित है | अतः भूकंप से टिहरी बाँध के टूटने से ऋषिकेश और हरिद्वार नगर प्रभावित हो सकते है | तथा बांध का जल आस – पास के क्षेत्रो में फैलकर तबाही मचा सकता है |

class 10th science Hamara Paryavaran

8. सरदार सरोवर बाँध परियोजना क्या है ?

उत्तर – सरदार सरोवर बाँध परियोजन सिंचाई , बिजली तथा पेयजल की आपूर्ति के उदेश्य से गुजरात राज्य के नर्मदा नदी पर बनाया जा रहा है | इस परियोजना से गुजरात , मध्य प्रदेश , महाराष्ट्र तथा राजस्थान को लाभ पहुंच सकता है |

9. वर्षा जल का संचयन से आप क्या समझते है ?

उत्तर – जल संचयन के लिए बड़े – बड़े बांधो के अलावा जल संचयन की प्राचीन पद्धति को प्राथमिकता देने का आवश्यकता है | प्राचीन काल से मानव जल की सामना करने के लिए मिट्टी की छोटे – छोटे बाँध खाई बनाकर बालू तथा संगमरमर के जलाशय आदि में वर्षा का पानी एकत्रित करके अपनी आवश्यकताओ की पूर्ति करते थे | जिसे वर्षा जल संचयन कहते है |

10. गैर परम्परागत उर्जा से आप क्या समझते है’’ तथा सौर सेल क्या है ‘’ इसके उपयोग को लिखे ?

क. गैर परम्परागत उर्जा :- उर्जा का वैसा स्रोत जो नवीकरणीय है | तथा उनकी खपत करने के वावजूद वे समाप्त नहीं होते है | उसे उर्जा के गैर परम्परागत स्रोत कहते है | तथा इससे प्राप्त उर्जा को गैर परम्परागत उर्जा कहते है |

ख. सौर सेल :- सूर्य से प्राप्त रौशनी के कारण सिलिकॉन तथा बोरोन प्लेटो पर जो ऊर्जा प्राप्त होती है ! उसे सौर उर्जा कहते है | तथा इससे प्राप्त सेल को सौर सेल कहते है |

सौर उर्जा से निम्नांकित लाभ है –
. सौर कुकर से खाद्य पदार्थो को पकाने में इसका उपयोग किया जाता है |
. सौर जल उष्मक से जल को गरम करने में उपयोगी है |
. सौर शक्ति संयत्र से विधुत उर्जा का उत्पादन करने में इसका उपयोग किया जाता है |
. सोलर सेल की मदद से सौर उर्जा को विधुत उर्जा में परिवर्तन करने में इसका उपयोग किया जाता है |

11. पवन उर्जा से आप क्या समझते है ? इसके लाभों को लिखे ?

उत्तर – हवा से प्राप्त होने वाली उर्जा को पवन उर्जा कहते है | इस उर्जा के निम्नांकित लाभ है –
. नाव चलाने में पवन उर्जा का उपयोग किया जाता है |
. कई उधोगो में पवन उर्जा का उपयोग किया जाता है |
. अनाज की पिसाई करने के लिए पवन चक्कियो द्वारा इस उर्जा का उपयोग किया जाता है 
. जल पम्प चलाने के लिए पवन चक्की द्वारा इस उर्जा का उपयोग किया जाता है |
. विधुत उत्पन्न करने के लिए पवन चक्की चलाने में इस उर्जा का उपयोग किया जाता है |

hamara paryavaran notes class 10th science bihar board

12. बायोगैस से आप क्या समझते है’’ तात्पर्य दे ?

उत्तर – बायोगैस वनस्पतियों पशुओ के मूल मूत्र अन्य व्यर्थ पदार्थ घरेलू कूड़े – कचड़े जैसे व्यर्थ पदार्थ से पैदा की जाती है ! यह एक गैसीय मिश्रण है ! जिसमे मीथेन तथा जलवाष्प मिली होती है ! मीथेन ज्वलनशील गैस है ! जो आसानी से जलती है ! गैस गैस के उपयोग होने के पश्चात बचे पदार्थ खाद के रूप में इस्तेमाल किए जाते है ! देहातो में बायोगैस संयंत्र काफी लोकप्रिय है ! इस संयंत्र में गोबर डालकर गैस प्राप्त किया जाता है ! जिसका उपयोग ईंधन के रूप में किया जाता है |

13. भारत में वन्य जीवो का प्रबंध पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखे ?

उत्तर – हमारे देश के प्रमुख वन्य प्राणी शेर बाघ , जीता , हाथी, कस्तुरी, मृग , काला , लंगूर , मगरमच्छ , घडियाल आदि है ! भारत में सैतीस वर्ष पहले 1970 ई. में वन्य जिव एवं प्रकृति संरक्षण वर्ष मानाया गया था ! देश में पशु पक्षियों के सुरक्षा के लिए कई वन बिहार राष्ट्रीय उधान तथा अन्य प्राकृतिक क्षेत्रो की स्थापना की गई है ! वन बिहार तथा राष्ट्रिय उधान वन्य प्राणियों की उनकी आवास के अनुकूल वातावरण उपलब्ध कराता है ! इसमें किसी भी जंतु का शिकार करना पकड़ना आथवा तंग करना दंडनीय अपराध है ! हमारी बाढ़ परियोजना काफी सफल रही है ! इस प्रकार भारत सरकार द्वारा वन्य प्राणियों के प्रबंधन के लिए अनेक परियोजनाएं संचालित है |

14. कूल्ह क्या है ?

उत्तर – चार सौ वर्ष पहले हिमाचल प्रदेश के कुछ पहाड़ी भागो में सिंचाई के लिए एक स्थानीय व्यवस्था की गई थी ! जिसे कूल्ह के नाम से जाना जाता था ! पहाड़ी के जल स्रोत को लोगो द्वारा बनाए गए नालो से जोड़कर पहाड़ी के निचे स्थित कई गाँवों में सिंचाई के लिए ले जाया जाता था |

Rate this post

Leave a Comment