Bharat Mata Notes । Bseb Class 10th Hindi भारतमाता

bharat mata question answer in hindi, Bihar board Class 10 ( भारतमाता ) Hindi, कक्षा 10 गोधूलि भाग 2 ( भारतमाता ) VVI Subjective Question 2022, भारतमाता काब्यखंड, Hindi Subjective Question Answer Bihar Board Class 10th, Bihar Board Class 10 Hindi भारतमाता, Class 10th Hindi Bharat Mata Subjective Question Answer

Bihar Board Class 10th Hindi Bharat Mata – भारतमाता Subjective

पाठ – 5 : भारत माता
लेखक – सुमित्रानंदन पंत
जन्म – 1900 में अलमोड़ा
मत्यु – 29 दिसम्बर 1971 में

कवी परिचय
  • सुमित्रानंदन पन्त का जन्म 1980 में उत्तराखंड के जिले आलमोड़ा में हुआ था |
  • सुमित्रानंदन पन्त के माता का नाम सरस्वती देवी और पिता का नाम गंगाघर पन्त था |
  • जन्म के 6 घंटे बाद ही कवी के माँ की मृत्यु हो गई थी |
  • सुमित्रानंदन पन्त को सुकुमार कवी भी कहते है |
  • पंतजी छायावादी मानवतावादी एवं प्रकृति के प्रिय कवी थे |
  • सुमित्रानंदन पन्त का अंतिम काव्य लोक्य्तन है |
  • पन्त जी ने आलोचना कहानी उपन्यास आदि लिखा है |
  • काव्य चिदम्बरा के लिए सुमित्रानंदन पन्त को भारतीय ज्ञान पीठ पुरस्कार मिला था |
  • भारत माता कविता काव्य संग्रह ग्राम्या से लिया गया है |

सुमित्रानंदन पन्त की प्रमुख कविताएँ – उच्छ्वास , पल्लव , वीणा , ग्रंथि , गुंजन , युगांत , युगवाणी , ग्राम्या स्वर्णधूलि स्वर्णकिरण , युगपथ , चिदम्बरा आदि है |

1. भारत माता अपने ही घर में प्रवासिनी क्यों बनी हुई है ?

उत्तर – भारत मातापने ही घर में प्रवासिनी बनी हुई है | क्योकि इनके समाने भारतीय लोगो पर अंग्रेज अत्याचार कर रहे है और यह चुपचाप देख रही है | जैसे कोई प्रवासी या मेहमान किसी दसरे के घर पर चुपचाप देखता है |

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Facebook Group Join Now

2. कविता में कवी भारत वासियों का कैसा चित्र खींचता है ?

उत्तर – कवी सुमित्रानंदन पन्त के अनुसार भारत के 30 करोड़ लोग फटे पुराने वस्त्र पहने है | आधा पेट भोजन करते है | वह शोषित बिना वस्त्र के मुर्ख और असभ्य शिक्षित है | वे अंग्रेजो के सामने नतमस्तक है और वृक्ष के निचे निवास करने के लिए मजबूर है |

3. भारत माता का ह्रास भी राहुग्रसित क्यों दिखाई पड़ता है ?

उत्तर – भारत माता का ह्रास भी राहू ग्रसित दिखाई पड़ता है ! क्योकि भारत माता पर ऊगे स्वर्ण जैसे फसल को अंगेजो के पैरो तले कुचला जा रहा है |

Bihar Board Class 10 Hindi Solutions पद्य Chapter 5 भारतमाता

4. कवी भारत माता को गीता प्रकाशनी मानकर भी जान मूढ़ क्यों कहता है ?

उत्तर – भारत विश्व के सबसे महत्वपूर्ण गंथो में से एक ग्रन्थ गीता को प्रकाशित करने वाला देश है | परन्तु वर्तमान में यही के लोग मूढ़ ( मुर्ख ) और असभ्य है | इसलिए कवी भारत माता को गीता प्रकाशिनी मानकर भी मूढ़ कहा है |

5. कवी के दृष्टि में आज भारत का तप संयम क्यों सफल है ?

उत्तर – कवी को आज भारत माता का तप संयम सफल होता हुआ दिख रहा है | क्योकि उसे ऐसा लगता है की गांधीजी भारत माता का अहिंसा रूपी दूध पीकर लोगो को अंग्रेजो से बचाने आए है |

6. कविता के प्रथम अनुच्छेद में कवि भारत माता का कैसा चरित्र प्रस्तुत करता है ?

उत्तर – कविता के प्रथम अनुच्छेद में कवि ने भारत माता की आत्मा कही जाने वाली ग्रामीणों की त्रासदी का धुंधला मत मौला जीवन का चरित्र प्रस्तुत किया है |

bharat mata class 10th hindi bihar board

7. व्याख्या करें 
क. स्वर्ण शस्य पर पद-तल-लुंठित, धरती-सा सहिष्णु मन कुंठित |

उत्तर – प्रस्तुत पंक्ति हमारी पाठ्य पुस्तक हिंदी पाठ के काव्यखंड में भारतमाता शीर्षक से लिया गया है ! जिसके लेखक सुमित्रानंदन पंत जी है ! कवि इस पंक्ति के माध्यम से यह बताना चाहते है ! कि वे सोना जैसी मीठी पराधीनता के चुंगल में फस गई है ! तथा कुंठित हो गई है ! वह हंस भी नहीं पा रही है ! जिससे हमारा देश पूर्ण रूप से लूटा हुआ महसूस हो रहा है |

ख. चिंतित भृकुटि क्षितिज तिमिरांकित, नमित नयन नम वाष्पाच्छादित।

उत्तर – प्रस्तुत पंक्ति हमारी पाठ्य पुस्तक हिंदी पाठ के काव्यखंड में भारतमाता शीर्षक से लिया गया है ! जिसके लेखक सुमित्रानंदन पंत जी है ! कवि इस पंक्ति के माध्यम से यह बताना चाहते है ! कि हमारी भारतमाता बिल्कुल चिंतित हो गई है ! उसके सामने चारों तरफ अंधकार ही अंधकार दिखाई देता है ! जिस प्रकार आंखों के सामने आकाश में छाए हुए बादल अंधकार रूप में दिखाई देता है ! ठीक उसी प्रकार गुलाम भारत भी अंधकार ही अंधकार में दिखाई दे रहा है |

Leave a Comment

error: Content is protected !!