Jivo me vividhata notes | Bseb Class 9 Science जीवो में विविधता

jivo me vividhata notes, Bihar Board Class 9 Science जीवों में विविधता Textbook Questions and Answers, Bihar Board Class 9 Science  Chapter 7 जीवों में विविधता, जीवों में विविधता class 9 pdf, जीवों में विविधता mcq, Class 9th Science Chapter 7. जीवों में विविधता, Notes of Class 9th: Ch 7 जीवों में विविधता विज्ञान, jivo mein vividhata class 9, bihar board class 9th science jivo me vividhata question answer

Bseb Class 9 Science jivo me vividhata notes 

पाठ – 7  जीवो में विविधता

1. जीवो में विविधता का क्या तात्पर्य है ?

उत्तर – जीवो में विविधता का तात्पर्य यह है | की इस पृथ्वी पर पाए जाने वाले सूक्ष्म जिव से लेकर विशाल जीव जैसे पादपो के रूप में पाई जाने वाली विभिनता है |

2. वर्गीकरण किसे कहते है ?

उत्तर – जीवो में आपसी समानता एवं असमानता के आधार पर विभिन्न समूहों में रखने की वैज्ञानिक पद्धति को वर्गीकरण कहते है |

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Facebook Group Join Now

3. कवक परपोषी होते है’’ क्यों ?

उत्तर – कवक परपोषी होते है | क्लोरोफिल की अनुपस्थित में अपना भोजन स्वयं नहीं बना पाते है | ये अपना भोजन भुत कार्बनिक पदार्थो अथवा जीवित पदार्थो द्वारा करते है |

4. सैवाल एलगी क्या है ?

उत्तर – शैवाल एक थैलाफाईट है | यह क्लोरोफिल में पाया जाता है | यह जटिल पादप है |

5. जीवो का वर्गीकरण क्यों जरुरी है ?

उत्तर – जीवो में जैव विविधता एवं जैव विकाश के अध्ययन को सूक्ष्म एवं सहज बनाने हेतु वर्गीकरण की आवश्यकता होती है |

bihar board class 9th science chapter 7 jivo me vividhata question answer

6. पादप जगत के प्रमुख वर्ग कौन – कौन होती है ?

उत्तर – पादप जगत के प्रमुख वर्ग पांच है –
क. थैलोफाईटा
ख. ब्रायोफाईटा
ग. टेरीडो फाईटा
घ. जिम्नोस्पर्म
ङ. एजियोस्पर्म

7. प्रॉटिस्टा क्या है ?

उत्तर – कुछ ऐसे जिव होते है | जिनको न पादप जगत में रखा जाता है | और नाही जंतु जगत में इन असुविधाओ को दूर करने के लिए जर्मन के वैज्ञानिक E.H ही केल ने 1866 ई. में एक तृतीय जगत का प्रस्वाव रखा जिसको प्रॉटिस्टा के नाम से जानते है |

8. आर हिटेकर ने सर्वप्रथम किस पांच जीवो को अलग – अलग बांटा ?

उत्तर – आर हिटेकर ने पांच जीवो को बांटा जो इस प्रकार से है –
क. मोनेरा
ख. प्रॉटिस्टा
ग. फांजाई
घ. प्लोटी
ङ. एनिमेलिया

9. एंजियोस्पर्म किसे कहते है ?

उत्तर – ऐसे सभी पौधे जिनमे फुल होते है | तथा फुल से फल बनता है | औए जिसके अंदर बिज पाया जाता है | उसे एंजियोस्पार्म कहते है |

10. एम्फिबिया को उभयचर कहा जाता है’’ क्यों ?

उत्तर – एम्फिबिया को उभयचर कहा जाता है | क्योकि ये जल एवं स्थल दोनों पर निवास करने में सक्षम है |

11. जिम्नोस्पार्म किसे कहते है ?

उत्तर – जिस फलो के बिज फ्लो के आवरण से ढके नहीं रहते है | ऐसे बिज नगन बीजी कहलाते है | जिसे जिम्नोस्पार्म कहते है |

12. मसरूम मृतजीवी क्यों कहलाते है ?

उत्तर – मसरूम मृतजीवी इसलिए कहलाते है | क्योकि ये अपना भोजन मृत या सड़े – गले कार्बिन पदार्थ से करते है |

13. ब्रायोफाईटा और टेरीडोफाईटा में अंतर स्पष्ट करे ?

क. ब्रायोफाईटा :- ब्रायोफाईटा में वास्तविक मुलतंत्र तथा परोह तंत्र नहीं होता है | एवं इसमें संवहन तंत्र भी नहीं पाया जाता है |

ख. टेरीडोफाईटा :- टेरीडोफाईटा में वास्तविक मूल तंत्र तथा परोह तंत्र होता है | एवं इसमें संवहन तंत्र पाए जाते है |

bseb class 9 science जीवो में विविधता 

14. द्रिनाम पद्धति क्या है ?

उत्तर – द्रिनाम पद्धति जीवो की नामकरण की वह वैज्ञानिक पद्धति है | जिसे सर्वप्रथम कैरोल्स लिनियम ने 18 वीं शताब्दी में प्राम्भ की थी | इस पद्धति के अनुसार किसी जिव का वैज्ञानिक नाम दो नामो द्वारा उलेखित किया जाता है | जिसमे एक का नाम व्न्सकी है | जिसको अंग्रेजी के बड़ी अक्षरों से शुरू करते है | और दूसरा नाम जाति है | जिसको अंग्रेजी के छोटी अक्षरों से शुरू करते है | ये दोनों नाम इटेलिक से लिया गया है |

15. सरसिनेट विशेषण क्या है ?

उत्तर – फर्न जैसे पौधे की नई अविकसित पत्तियाँ लचीली स्प्रिंग की तरह कुंडलित होती है | जैसे ये पत्तियाँ विकसित होती है | वैसे ही कुंडलित और सीधी हो जाती है | इस व्यवस्था को सरसिनेट विशेषण कहा जाता है |

16. वर्ग मैमेलिया के चार विशिष्ट लक्षणों को लिखे ?

उत्तर – वर्ग मैमेलिया के चार विशिष्ट लक्षण इस प्रकार है –
क. इनकी त्वचा बालो से ढकी रहती है |
ख. ये नियत तापी होते है |
ग. इसमें नवजात के लिए रत्न पाया जाता है |
घ. इसमें बाह्रकोण उपस्थित होता है |

17. देह्गुहा क्या है ?

उत्तर – जन्तुओ में उनके देहमिति एवं आहार नाल के बिच के स्थान को देह्गुहा कहते है |

18. भारत के जैव विविधताओं के विशेषताओ को उल्लेख करे ?

उत्तर – विश्व में भारत एक बिर्धन देश होते हुए भी अपने जैव विविधताओं के मामले में एक धनि देश है | यह देश विश्व की बाढ़ मेधावायोडाय – पसीरी जिसे दस प्रमुख भौगोलिक क्षेत्रो में विभाजित किया जाता है |

19. एक बिजपत्री और द्रीबीपत्री में अंतर स्पष्ट करे ?
क. एक बिजपत्री : –

i. इनके पत्तियों में समान्यता शिरा – विन्यास पाया जाता है |
ii. इनके जेड रेशेदार होती है |
iii. इनमे संवहन बिखरे तथा बंद होते है |

ख. द्रीबीपत्री :-

i. जबकि इनकी पत्तियों में जिलिकावत शिरा विन्यास पाया जाता है |
ii. जबकि इनके जेड रेशेदार नहीं होती है |
iii. जबकि इनमे संवहन बिखड़े तथा खुले होते है |

Bihar Board Class 9th Science Chapter 7 जीवो में विविधता Subjective

20. जन्तुओ और पौधे के वर्गीकरण के आधार पर मूल अंतर स्पष्ट क्या है ?

उतर – पौधे स्थिर स्वपोषी होते है | ये प्रकाश संश्लेषण के प्रक्रिया द्वारा अपना भोजन स्वयं बना लेते है | इसमें वृद्धि अनिश्चित होती है | लेकिन जंतु गतिशील एवं परपोषी दोनों होते है | इसमें निश्चित आकार के बाद वृद्धि रुक जाती है | इन्ही मूल अन्तरो के आधार पर 1758 ई. में कैरोल्स लिनियस ने जीवो को सर्वप्रथम दो भागो में बाँटा गया है –
क. पादप जगत
ख. जंतु जगत

21. केंचुआ के बारे में संक्षिप्त वर्णन करे ?

उत्तर – केंचुआ को किसानो का मित्र कहा गया है | ये हमारे लिए लाभदायक तथा हानिक्राक दोनों होते है | इनके शरीर की बनावट बेलनाकार तथा खंडित होती है | इनके शरीर में किसी प्रकार का परिवर्तन नहीं होता है | तथा इनका सर स्पर्श नहीं होता है |

22. मछलियों के प्रमुख विशेषताएँ का उल्लेख करे ?

उत्तर – मछलियों में प्रमुख विशेषताएँ निम्नलिखित है –
क. मछलियाँ समुन्द्र प्रवाह और मीठे जल दोनों जगह पाई जाती है |
ख. इनका शरीर धारा रेखीय होता है |
ग. इनका श्वसन गिल्स द्वारा होता है |
घ. ये अंडे देती है |

23. स्पाईरोगाईरा को तलाब का रेशम कहाँ गया है’’ क्यों ?

उत्तर – स्पाईरोगाईरा को तलाब का रेशम इसलिए कहते है | क्योकि इसका तंतु रेशम की तरह चिकनी होती है |

24. आदिम जीव किसे कहते है ?

उत्तर – आदिम जीव वैसे जीव को कहते है |जिनकी शारीरिक संरचना में प्राचीन काल से लेकर आधुनिक काल तक कोई ख़ास परिवर्तन नहीं होता है | उसे हम आदिम जीव कहते है |

25. निषेचन किसे कहते है ?

उत्तर – नर एवं मादा के युग्म एवं संलयन की क्रिया को निषेचन कहते है |

Leave a Comment

error: Content is protected !!