aml kshar evam lavan | Bseb Class 10 Science अम्ल क्षारक एवं लवण

aml kshar evam lavan, अम्ल क्षार एवं लवण subjective, अम्ल भस्म तथा लवण, Bihar Board Class 10 Science अम्ल, क्षारक एवं लवण, Amla char Lavan question answer, Class 10th अम्ल क्षार एवं लवण Subjective question answer, Bseb Class 10 Science अम्ल क्षार एवं लवण, aml chhar evm lawan notes class 10th science, अम्ल क्षार एवं लवण प्रश्नोत्तरी pdf, कक्षा 10 विज्ञान पाठ 2 के प्रश्न उत्तर, acid base and salt mcq pdf in hindi, bihar board class 10th science aml kshar evam lavan notes in hindi, ncert class 10th aml kshar evam lavan notes

Bihar Board Class 10th Science Chapter 2 aml kshar evam lavan Subjective

पाठ – 2 : अम्ल क्षार एवं लवण

1. अम्ल तथा क्षार की परिभाषा उदाहरण के साथ दे ?

अम्ल :- अम्ल वह पदार्थ है | जो स्वाद में खट्टा होता है | तथा धातु से अभिक्रिया कर हाइड्रोजन गैस मुक्त करता है |

क्षार :- क्षार वह पदार्थ है | जिसका जलीय विलयन स्वाद में कडवा होता है | तथा अम्ल को उदासीन कर लवण बनाता है |

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Facebook Group Join Now

2. अम्ल तथा क्षार में अंतर स्पष्ट करे ?

उत्तर – अम्ल तथा क्षार में निम्नलिखित अंतर है,, जो इस प्रकार से है –

अम्ल
1. अम्ल स्वाद में खट्टा होता है |
2. यह नील लिटमस पत्र को लाल कर देता है |
3. यह जल में घुलकर H+ देता है |
4. यह क्षार को उदासीन कर देता है |

क्षार
1. क्षार स्वाद में कड़वा होता है |
2. यह लाल लिटमस पत्र को नीला कर देता है |
3. यह जल में घुलकर oh – देता है |
4. यह अम्ल को उदासीन कर देता है |

ncert aml kshar evm lawan class 10 notes pdf

3. सूचक किसे कहते है ?

उत्तर – वैसा पदार्थ जो अपने रंग परिवर्तन के द्वारा पदार्थ के अम्ल या क्षार के उदासीन होने की सुचना देता है | उसे सूचक कहते है |

4. विधुत – अपघटन या विधुत अनअपघटन से आप क्या समझते है ?

उत्तर – अभी अम्ल क्षार तथा लवण के जलीय विलयन विधुत का संचालन करते है | जिसे विधुत – अपघटन कहते है | जैसे :- हाइड्रोक्लोरिक अम्ल , सोडियम , हाइड्राआक्साइड , सोडियम क्लोराइड आदि | वैसा यौगिक जिनके जलीय विलयन विधुत का संचालन नहीं करते है | उसे हम विधुत अनअपघटन कहते है | जैसे :- एल्कोहल, ग्लूकोस , यूरिया आदि

5. गंध सूचक किसे कहते है ?

उत्तर – कुछ ऐसे पदार्थ जिनके गंध अम्लीय या क्षारीय माध्यम में बदल जाते है | इस प्रकार के पदार्थ को गंधिये सूचक कहते है |

6. अम्ल एवं क्षार धातु से अभिक्रिया कैसे करते है ?

उत्तर – धातु अम्लो से अभिक्रिया करके हाइड्रोजन को विस्थापित करती है | और अम्ल के शेष अवशिष्टो से मिलकर यौगिक बनाती है | इस यौगिक को लवण कहते है | अतः अम्ल धातु से अभिक्रिया करके लवण तथा हाइड्रोजन गैस बनाते है |

7. पीतल एवं ताम्बे बर्तनों में दही एवं खट्टा पदार्थ को क्यों नहीं रखना चाहिए ?

उत्तर – दही एवं खट्टे पदार्थ में अम्ल होता है | अम्ल धातुओ से अभिक्रिया करके लवण एवं हाइड्रोजन गैस बनाते है | जिससे पदार्थ खाने योग नहीं रहता है | इसके साथ ही दही एवं खट्टे पदार्थ को ताब्मे के वर्तनो में रखा जाएँ तो अम्ल के क्रिया के कारण यह वर्तन संक्षारित हो जाता है | इसी कारण पीतल तथा ताम्बे की वर्तनो में खट्टे पदार्थ को नहीं रखना चाहिए |

8. शुष्क हाइड्रोक्लोरिन गैस शुष्क लिटमस पत्र का रंग क्यों नहीं बदलते है ?

उत्तर – शुष्क हाइड्रोक्लोरिन गैस में हाइड्रोजन आयन नहीं होता है | इसलिए यह अम्लीय अभिल्क्ष्ण प्रदर्शित नहीं करती है | जिसके कारण लिटमस पात्र के रंग को नहीं बदलती है |

Aml char aur lawan question answer class 10th science

9. जल के अनुपस्थिति में अम्ल का व्यवहार अम्लीय क्यों नहीं होता है ?

उत्तर – अम्ल केवल जल में धुलकर हाइड्रोजन आयन उत्पन्न करते है | हाइड्रोजन आयन के उपस्थिति के कारण अम्ल का व्यवहार अम्लीय होता है | अतः जल की अनुपस्थिति में हाइड्रोजन आयन नहीं बनते है | इसी कारण अम्ल अपना अम्लीय व्यवहार नहीं करता है |

10. आस्वित जल में विधुत का चालक क्यों नहीं होता है ,, जबकि वर्षा का जल में होता है ?

उत्तर – आस्वित जल में कोई आयनिक यौगिक विले नहीं रहते है | जिसके कारण यह आयनों में विघटित नहीं होते है | वर्षा के जल वायुमंडल से होते हुए भूमि पर गिरते समय वायु की अम्लीय गैस co2, so2, no2  आदि को घुला लेते है | जिससे विभिन्न प्रकार के अम्ल बनते है | यह अम्ल आयनों में विघटित होते है | इसलिए वर्षा जल विधुत के चालन करते है |

11. अम्ल और क्षार परस्पर कैसे अभिक्रिया करते है ?

उत्तर – अम्ल और क्षार की अभिक्रिया से लवण तथा जल बनते है | अर्थात दोनों एक दुसरे को उदासीन कर देते है | इसलिए इस अभिक्रिया को उदासीनीकरण अभिक्रिया कहते है |

12. प्रयोगशाल में साधारण नामक किस प्रकार बनाया जाता है ? आथवा सोडियम क्लोराइड बनाने की विधि तथा उपयोग को लिखे

उत्तर – सोडियम क्लोराइड का रासायनिक नाम nacl होता है | सोडियम हाइड्रा आक्साइड तथा Hcl अम्ल के बिच अभिक्रिया करने के फलस्वरूप सोडियम क्लोराइड बनता है |
Naoh + Hcl – Nacl + H2o

13. सोडियम हाइड्रा आक्साइड बनाने की विधि तथा इसके उपयोग को लिखे ?

उत्तर – सोडियम धातु जल के बिच अभिक्रिया कराने के फलस्वरूप सोडियम हाइड्रा आक्साइड बनता है |
Na + H2o – Naoh + H2

सोडियम हाइड्रा आक्साइड का उपयोग निम्नलिखित है –

. साबुन तथा अपमानजनिक बाने में इसका उपयोग किया जाता है |
. धातु से ग्रीज हटाने में इसका उपयोग किया जाता है |
. कागज बनाने में इसका उपयोग किया जाता है |
. कृत्रिम फाइबर कृत्रिम वस्त्र आदि के निर्माण में इसका उपयोग किया जाता है |
. बक्साईड अयस्क के शुद्धिकरण में इसका उपयोग किया जाता है |

अम्ल क्षार और लवण class 10 notes pdf

14. सोडियम बाई कार्बोनेट बनाने की विधि इसके गुण तथा इसके उपयोग को लिखे ? आथवा सोडियम हाइड्रोजन कार्बोनेट को लिखे ?

उत्तर – अमोनिया गैस सोडियम क्लोराइड के जलीय विलयन में कार्बन डाई आक्साइड गैस प्रभावित करने के फलस्वरूप सोडियम बाई कार्बोनेट प्राप्त होता है |

इसके गुण निम्नलिखित है –

. सोडियम बाई कार्बोनेट का जलीय विलयन क्षरिये होता है | और इस विलयन का ph मान 7 से अधिक होता है |
. सोडियम बाई कार्बोनेट अम्लो को उदासीन करता है | तथा अभिक्रिया के फलस्वरूप co2 गैस बाहर निकलता है |
. यह जल में कम घुलशील होता है |
. यह एक खादार सफेद ठोस पदार्थ है |

इसके निम्नलिखित उपयोग है –

. बेकिंग सोडा का उपयोग बेकिंग पाउडर बनाने में होता है | तथा ब्रेड , केक आदि बनाने में उपयोग होता है |
. औषधी के रूप में इसका उपयोग किया जाता है |
. NaHco3 का उपयोग अगिन सामक यंत्रो में किया जाता है |
. रसोई घर में खाने का सोडा का उपयोग खस्टा बनाने में किया जाता है |
. कभी – कभी इसका उपयोग भोजन जल्द पकाने के लिए किया जाता है |

15. सोडियम कार्बोनेट बनाने की विधि तथा इसके उपयोग को लिखे ?

उत्तर – प्रयोगशाला में सोडियम बाई कार्बोनेट को गर्म करके सोडियम कार्बोनेट या धोने का सोडा प्राप्त किया जाता है |
इसके उपयोग निम्नलिखित है –
. कपड़ा आदि साफ़ करने में इसका उपयोग किया जाता है |
. कांच , कागज , साबुन के उत्पादन में इसका उप्प्योग किया जाता है |
. पेट्रोलियम शुद्ध करने में इसका उपयोग किया जाता है |
. प्रयोगशाला में अभिक्रमक के रूप में इसका उपयोग किया जाता है |

Rate this post

Leave a Comment