Bseb Class 10th Civics लोकतंत्र में प्रतिस्पर्धा एवं संघर्ष

loktantra me pratispardha evam sangharsh class 10th civics solutions, Bihar Board Class 10 Political Science Solutions Chapter 3 लोकतंत्र में प्रतिस्पर्धा एवं संघर्ष, Bihar Borad Class 10th लोकतंत्र में प्रतिस्पर्धा एवं संघर्ष, BSEB Class 10th Political Science 3 लोकतंत्र में प्रतिस्पर्धा एवं संघर्ष, Loktantra Mein Pratispardha Evam Sangharsh, Class 10th Political Science 3 लोकतंत्र में प्रतिस्पर्धा एवं, loktantra me pratispardha evam sangharsh question answer, Bihar Board class 10th civics chapter 3 लोकतंत्र में प्रतिस्पर्धा एवं संघर्ष

Bihar Board Class 10 Civics Chapter 3 Loktantra Mein Pratispardha Evam Sangharsh

पाठ – 3 : लोकतंत्र में प्रतिस्पर्धा एवं संघर्ष

1. सूचना का अधिकार का कानून लोकतंत्र का रखवाला है ,, कैसे ?

उत्तर – सूचना का अधिकार का कानून लोगों को जानकार बनाने और लोकतंत्र के रखवाले के तौर पर सक्रिय करने का इच्छा का उदाहरण साबित हुआ है सूचना का अधिकार सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार और अंकुश लगाने का काम करता है इस कानून के पारित होने के बाद आप जनता काफी जागरूक हो गई है |

2. चिपको आंदोलन का मुख्य उद्देश्य क्या है ?

उत्तर – चिपको आंदोलन का मुख्य उद्देश्य स्थानीय निवासियों का जल जंगल जमीन जैसे प्राकृतिक संसाधनों पर नियंत्रण था सरकार से यह मांग की गई थी कि जंगल की कटाई का कोई भी ठेका बाहरी व्यक्ति को ना दिया जाए |

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Facebook Group Join Now

3. ताड़ी विद्रोह आंदोलन क्यों हुआ ?

उत्तर – ताड़ी विद्रोह आंदोलन महिलाओं द्वारा शराबबंदी के लिए चलाया गया था उसका उद्देश्य पुरुषों में शराब की लत को समाप्त करना था ताड़ी ताड़ के पेड़ से प्राप्त होने वाली शराब है |

4. सूचना के अधिकार आंदोलन के मुख्य उद्देश्य क्या थे ?

उत्तर – सूचना के अधिकार आंदोलन का मुख्य उद्देश्य सरकारी दस्तावेजों के प्रति लिपि की प्राप्ति थी |

Bihar Board Class 10th Civics Chapter 3 loktantra me pratispradha evm sangharsh question answer

5. बिहार में हुए छात्र आंदोलन के प्रमुख कारण क्या थे ?

उत्तर – बिहार में बेरोजगारी और भ्रष्टाचार खदान की कमी और कीमतों में हुई अप्रत्यक्ष वृद्धि ही छात्र आंदोलन के प्रमुख कारण थे |

6. जनता दल यूनाइटेड का परिचय दें ?

उत्तर – जनता दल यूनाइटेड को जनता दल के नाम से जो भी जाना जाता है ! ये एक क्षेत्रीय दल है जिसका चुनाव चिन्ह तीर छाप है ! इसके वर्तमान अध्यक्ष श्री नीतीश कुमार जी है ! इन्हीं के नेतृत्व में बिहार में सरकार बनी जिसके मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार जी है |

7. राजनीतिक दल किसे कहते हैं

उत्तर – सामान्यतः राजनीतिक दल का आशय ऐसे व्यक्तियों के किसी भी समूह से है ! जो एक समान उद्देश्य की प्राप्ति के लिए कार्य करता है यदि उस दल  का उद्देश्य राजनीतिक कार्यकलाप  से संबंधित होता है तो उसे हम राजनीतिक दल कहते हैं |

8. दबाव समूह क्या है

उत्तर – लोगों का ऐसा समूह जो अपनी मांगो  की ओर सरकार का ध्यान दिलाने के लिए सरकार को अप्रत्यक्ष रूप से दबाव डालने के लिए संगठन बनाता है उसे हम दबाव समूह कहते हैं |

9. राजनीतिक दलों की दो प्रमुख चुनौतियों का वर्णन करें ?

उत्तर – राजनीतिक दलों की प्रमुख चुनौतियां निम्नलिखित है जो इस प्रकार से है –  

i. दल के अंदर आंतरिक लोकतंत्र के अभाव के कारण बहुत सारे नेता अपने अधिकारों से वंचित रह जाते हैं |

ii. राजनीतिक दलों में वंशवाद उत्तराधिकारी का चलन बढ़ गया है जो दल को सक्षम नेतृत्व प्राप्त करने से वंचित रखता है |

iii. राजनीतिक दल चुनाव जीतने के लिए धन एवं बल के प्रयोग में संकलन है ! यह लोकतंत्र के विकास को रोकता है तथा दल के अंदर अच्छे नेताओं के महत्व को कम करता है |

iv. आजकल दोनों की विचारधाराओं में मामूली सा अंतर रह गया है ! जनता के लिए विकल्पों का चुनाव सीमित हो गया है ! फलतः जनता के लिए विकल्पों का चुनाव सिमित हो गया है |

10. राजनीतिक दलों को प्रभावशाली बनाने के लिए 3 उपायों को संक्षेप में लिखें ?

उत्तर – राजनीतिक दलों को प्रभावशाली बनाने के लिए तीन उपाय निम्नलिखित है जो इस प्रकार से है –

क. दल बदल कानून लागू हो :- विधायकों और सांसदों के दल बदल को रोकने हेतु जो कानून बनाया गया है ! उसे बिना किसी लाभ के लागू होना चाहिए |

ख. न्यायपालिका के आदेश का पालन :- आय से अधिक संपत्ति काले धन का दुरुपयोग तथा अपराधी प्रवृत्ति के उम्मीदवारों के चुनाव लड़ने पर रोक संबंधी न्यायालय के आदेश लागू होने से राजनीतिक दल प्रभावशाली होगा |

ग. दलो के बीच आंतरिक लोकतंत्र बहाल हो :- राजनीतिक दलों को प्रभावी बनाने के लिए यह भी आवश्यक है ! कि सभी राजनीतिक दल अपने-अपने संविधान का पालन करें |

Bseb Class 10th Political Science लोकतंत्र में प्रतिस्पर्धा एवं संघर्ष

11. राजनीतिक दल को लोकतंत्र का प्राण क्यों कहते हैं ?

उत्तर – राजनीतिक दल को लोकतंत्र का प्राण इसलिए कहा जाता है ! क्योंकि लोकतांत्रिक देशों का शासनकाल संचालन राजनीतिक दलों द्वारा होता है वही चुनाव लड़ने से लेकर सरकार की गठन की प्रक्रिया तक कार्य पूरा करते हैं ! देश के लिए नीति का निर्धारण करते हैं ! यदि राजनीतिक दलों की मान्यता समाप्त कर दी जाए तो देश की जाति समुदाय भाषा क्षेत्र भ्रष्टाचार जैसे गंभीर समस्याओं में इतना उलझ जाएगी कि राष्ट्र की एकता और अखंडता को बचा पाना मुश्किल हो सकता है ! जबकि राजनीतिक दल उपयुक्त सभी समस्याओं को चतुराई पूर्वक समाधान करते हैं ! इसलिए लोकतंत्र में राजनीतिक दलों का होना आवश्यक है |

12. राष्ट्रीय राजनीतिक दल किसे कहते हैं

उत्तर – वैसा दल जिसकी मान्यता या अस्तित्व पूरे देश में होता है ! इनके कार्यक्रम एवं नीतियां राष्ट्रीय स्तर के होते हैं ! इनकी इकाइयां राज्य स्तर पर भी होती है ! ऐसे दल को ही राष्ट्रीय राजनीतिक दल कहते हैं ! राष्ट्रीय राजनीतिक दल की मान्यता प्राप्त करने के लिए राजनीतिक दलों को लोकसभा या विधानसभा के चुनाव में चार या अधिक राज्यों द्वारा कुल डाले गए मतों का 6% प्राप्त करने के साथ किसी राज्य  से लोकसभा की कम से कम 4 सीटों पर विजय होना आवश्यक है |

13. दल बदल कानून क्या है ?

उत्तर – दल बदल कानून संशोधन तथा विधायकों पर लगने वाला वैसा कानून है ! जिसके द्वारा कोई भी नेता अपने दल के कुल बिजई नेताओं के एक चौथाई संख्या के साथ ही दल छोड़ सकता है ! अन्यथा उसकी योग्यता रद्द कर दी जाएगी ऐसे कानून को ही दल बदल कानून कहते  हैं |

14. भ्रुण हत्या क्या है,, क्या कानूनी इसे  रोकने में सफल हुआ है ?

उत्तर – लड़कियों को गर्भावस्था में मार देना या हत्या कर देना ही भ्रूण हत्या कहलाता है ! भारत में भ्रूण हत्या विरोधी कानून अधिक सफल नहीं हो पाया है ! क्योंकि इस कानून का कड़ाई से पालन नहीं हो रहा है |

15. राजनीतिक दलों का मुख्य कार्य बताइए ?

उत्तर – राजनीतिक दलों के प्रमुख कार्य है जो इस प्रकार से है – 

क. नीति एवं कार्यक्रम तय करना :-  राजनीतिक दल जनता का समर्थन प्राप्त करने के लिए नीति एवं कार्यक्रम तैयार करते हैं ! इन्हीं नीतियों एवं कार्यक्रम के आधार पर वे चुनाव लड़ते हैं |

ख. शासन का संचालन :- राजनीतिक दल बहुमत प्राप्त करके शासन का संचालन करते हैं ! तथा विपक्ष में रहने वाली दल सरकार के गतिविधियों पर नजर रखता है ! तथा सरकार को गड़बड़ी करने से रोकता है |

ग. चुनाव का संचालन :-  राजनीतिक दल चुनाव का संचालन भी करते हैं ! जिस प्रकार लोकतांत्रिक शासन व्यवस्था में राजनीतिक दल का होना आवश्यक है ! उसी प्रकार दलीय व्यवस्था में चुनाव का होना आवश्यक है ! चुनाव के समय विभिन्न राजनीतिक दलों अपने उम्मीदवारों को खड़ा करके और उन्हें चुनाव जिताने का प्रयास करते हैं |

घ. राजनीतिक प्रशिक्षण :-  राजनीतिक दल मतदाताओं को राजनीतिक प्रशिक्षण देने का भी कार्य करते हैं |

च. गैर राजनीतिक कार्य :- राजनीतिक दल ना केवल राजनीति का कार्य करते हैं ! बल्कि गैर राजनीतिक कार्य भी करते हैं ! जैसे प्राकृतिक आपदाओं मानव निर्मित आपदा के  समय लोगों को राहत संबंधी कार्य पूरा करता है |

छ. सरकार एवं जनता के बीच माहाआस्था का काम :- राजनीतिक दल का एक प्रमुख कार्य जानता है ! और सरकार के बीच मध्यस्थता करना है |

16. किस आधार पर कह सकते हैं कि बिहार से शुरू हुआ छात्र आंदोलन का स्वरूप राष्ट्रीय हो गया ?

उत्तर – बिहार से शुरू हुआ छात्र आंदोलन का स्वरूप क्षेत्रीय ही नहीं बल्कि राष्ट्रीय था ! यह 1975 के बिहार छात्र आंदोलन इंदिरा गांधी द्वारा आपातकाल की घोषणा तथा 1977 के आम चुनाव में कांग्रेस की बुरी पराजय स्पष्ट करती है ! बिहार के छात्रों ने 1974 में लोक नारायण जय प्रकाश नारायण के नेतृत्व में इस आंदोलन का प्रारंभ किया गया ! वह 1975 के प्रारंभ में इतना व्यापक रूप ले लिया कि दिल्ली के रामलीला मैदान में देश के कोने-कोने से जितने लोगों ने भाग लिया इतनी विशाल रैली कभी नहीं हुई थी !

जिससे घबराकर तत्कालिक प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी ने आपातकालीन की घोषणा कर दी 1977 में लोकसभा के चुनाव में उनकी तथा उनकी दल की ऐसी स्थिति हो गई ! कि स्वयं इंदिरा गांधी रायबरेली सीट तथा उसका बेटा संजय गांधी अमेठी सीट हार गए पहली बार जनता पार्टी का केंद्र में सरकार बनाने का मौका मिला जिससे स्पष्ट होता है ! कि बिहार से शुरू हुआ छात्र आंदोलन का स्वरूप राष्ट्रीय हो गया |

loktantra Me pratispardha evam sangharsh notes

17. राजनीतिक दल राष्ट्रीय विकास में किस प्रकार योगदान करते हैं ?

उत्तर – राजनीतिक दल राष्ट्रीय विकास में महत्वपूर्ण योगदान करता है राजनीतिक दलों के द्वारा ही समाज में राष्ट्र के बीच एकता स्थापित की जाती है प्रत्येक दल में विभिन्न जाति धर्म भाषा क्षेत्र मिलाकर राष्ट्र को एक सूत्र में बांधने का कार्य करते हैं ! इसके अतिरिक्त देश के विभिन्न समस्याओं को सरकार के सामने उठाकर भी विवश करते हैं !

कि सरकार का प्रत्येक कार्य जन कल्याणकारी होना चाहिए इस तरह के ही राजनीतिक दल व्यापक सिद्धांत के द्वारा राष्ट्रीय विकास में योगदान करते हैं ! राजनीतिक दल सभी लोगों के समस्याओं को समेट कर सरकार के सामने रखते हैं ! और उनके समाधान का प्रयास करवाते हैं ! राजनीतिक दल क्षेत्र विशेष से ऊपर उठकर राष्ट्रीय विकास में अपना बहुमूल्य योगदान देते हैं |

18. भारतीय किसान यूनियन की प्रमुख मांगे क्या थी ?

उत्तर – भारतीय किसान यूनियन की मुख्य मांगे निम्नलिखित है जो इस प्रकार से है –
. गन्ना एवं गेहूं के मूल्यों में वृद्धि करना |
. कृषि से संबंधित तथा अंतरराष्ट्रीय व्यापार पर लगे प्रतिबंध को समाप्त करना |
. सस्ते दर पर किसानों को बिजली उपलब्ध कराना |
. किसानों के बकाया कर्ज माफ करना |

19. भारतीय संविधान की अनुच्छेद 19 के विषय में लिखे ?

उत्तर – अनुच्छेद 19 के अनुसार महिलाओं सहित सभी नागरिकों को भाषण एवं अभिव्यक्ति एक जगह इकट्ठे होकर संघ बनाने भारत के किसी भी प्रदेश में स्वतंत्र रूप से रहने घूमने तथा कोई भी व्यवस्था या रोजगार प्राप्त करने का अधिकार है ! यह सार्वजनिक अधिकार महिलाओं सहित सभी नागरिकों को मौलिक अधिकार द्वारा प्रदान किया गया है |

Class 10th Civics Subjective Notes – राजनितिक 
पाठ – 1लोकतंत्र में सत्ता की साझेदारी
पाठ – 2सत्ता में साझेदारी की कार्यप्रणाली
पाठ – 3लोकतंत्र में प्रतिस्पर्धा एवं संघर्ष
पाठ – 4लोकतंत्र की उपलब्धियाँ
पाठ – 5लोकतंत्र की चुनौतिया
Rate this post

Leave a Comment