Bseb Class 10th Political Science सत्ता में साझेदारी की कार्यप्रणाली

satta me sajhedari ki karyapranali, सत्ता की साझेदारी प्रश्न उत्तर bihar board, सत्ता की साझेदारी class 10 notes, 2. सत्ता में साझेदारी की कार्यप्रणाली लघु उत्तरीय प्रश्न, Board Class 10 Social Science civics Solutions Chapter 2 सत्ता में साझेदारी की कार्यप्रणाली, Bihar Board Class 10th Political Science 2 सत्ता में साझेदारी की कार्यप्रणाली, Bihar Board Class 10th satta me sajhedari ki karypranali notes, BSEB Class 10th सत्ता में साझेदारी की कार्यप्रणाली , Satta Mein Sajhedari Ki Karyapranali 10th Class, Chapter 2 satta me sajhedari ki karyapranali political rajnitik bihar board, satta me sajhedari ki karaypranali civics chapter 2 subjective solution bihar board

Bihar Board Class 10th Civics Chapter 2 satta me sajhedari ki karyapranali – सत्ता में साझेदारी की कार्यप्रणाली Subjective

पाठ – 2 : सत्ता में साझेदारी की कार्यप्रणाली

प्रश्न 1.
पंचायती राज का शुभारंभ कब और कहां हुआ ?

उत्तर – पंचायत राज्य व्यवस्था का शुभारंभ 2 अक्टूबर 1959 में भारत के राजस्थान के नागौर जिले में हुआ था |

प्रश्न 2.
भारतीय संविधान की आठवीं अनुसूची में कितनी भाषाओं को मान्यता दी गई है ?

उत्तर – भारतीय संविधान की आठवीं अनुसूची में 22 भाषाओं को मान्यता दी गई है |

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Facebook Group Join Now

प्रश्न 3.
बिहार में नगर की शासन व्यवस्था को संचालित करने के लिए कैसी व्यवस्था की गई है ?

उत्तर – बिहार में नगर की शासन व्यवस्था संचालित करने के लिए त्रिस्तरीय व्यवस्था की गई है, जो इस प्रकार से है –
. नगर पंचायत
. नगर परिषद
.  नगर निगम

सत्ता में साझेदारी की कार्यप्रणाली notes

प्रश्न 4.
किस शहर में नगर पंचायत की व्यवस्था होती है ?

उत्तर – जिस शहर की आबादी 12 से 40,000 के बीच हो वहां नगर पंचायत की व्यवस्था होती है |

प्रश्न 5.
नगर पंचायत की सदस्यों  की संख्या कितनी हो सकती है ?

उत्तर – नगर पंचायत की सदस्यों की संख्या कम से कम 10 और अधिक से अधिक 37 हो सकती है |

प्रश्न 6.
किस शहर में नगर परिषद का गठन किया जाता है ?

उत्तर – जिस शहर की आबादी 2 से 3 लाख  के बीच होती है वहां नगर परिषद का गठन किया जाता है |

प्रश्न 7.
नगर परिषद के सदस्यों की संख्या कितनी होती है ?

उत्तर – नगर परिषद के सदस्यों की संख्या 10 से 40 के बीच होती है |

प्रश्न 8.
संघ राज का अर्थ बताइए ?

उत्तर – संघ राज का अर्थ केंद्र तथा राज्य सरकारों का मिलाजुला रूप है जिसमें दोनों मिलकर शासन व्यवस्था को संचालित करते हैं |

प्रश्न 9.
संघीय शासन की दो विशेषताएं बताइए ?

उत्तर – संघीय शासन की दो विशेषताएं निम्नलिखित है जो इस प्रकार से है –  क. दोहरी सरकार का गठन संघीय शासन व्यवस्था की सर्वोच्च सत्ता केंद्र सरकार और उसकी विभिन्न आनुसागिक  इकाइयों के बीच बँट जाती है |

प्रश्न 10.
ग्राम पंचायतों के प्रमुख अंग कौन कौन है ?

उत्तर – ग्राम पंचायतों के प्रमुख अंग इस प्रकार से है –
. ग्राम सभा
. कार्य कार्नी समिति 
.  पंचायत सेवक 
.  ग्राम रक्षा दल 
. ग्राम कचहरी 

bihar board class 10th civics chapter 2 सत्ता में साझेदारी की कार्यप्रणाली का प्रश्न उत्तर

प्रश्न 11.
सत्ता के विकेंद्रीकरण का क्या अर्थ है ?

उत्तर – सत्ता के विकेंद्रीकरण का तात्पर्य सत्ता को एक स्थान को केंद्रित ना कर उसका विभिन्न स्तरों पर विभाजित किया जाना है भारत में केंद्र और राज्य के मध्य शक्ति विभाजन इसका उदाहरण है |

प्रश्न 12.
समवर्ती सूची से आप क्या समझते हैं ?

उत्तर – हमारे संविधान की सातवीं अनुसूची में केंद्र और राज्यों के मध्य शक्तियों का विभाजन किया गया है समवर्ती सूची में उन मामलों को शामिल किया गया है जिनपर कानून बनाने का अधिकार केंद्र और  राज्य दोनों को प्राप्त है |

प्रश्न 13.
संघवाद लोकतंत्र के अनुकूल है ?

उत्तर – संघवाद लोकतंत्र की व्यवस्था करता है कि उस शासन व्यवस्था के अंतर्गत रहने वाले लोगों में आपसी सौहार्द एवं विश्वास रहेगा उन्हें इस बात का भय नहीं रहेगा कि एक की भाषा संस्कृति और धर्म दूसरे पर लाद दी जाएगी |

प्रश्न 14.
सत्ता में साझेदारी सही है, क्योकि ?

उत्तर – विभिन्न समुदायों के बीच टकराव कम करता है |

प्रश्न 15.
सत्ता की साझेदारी लोकतंत्र में क्या महत्व रखती है ?

उत्तर – सत्ता की साझेदारी लोकतंत्र में इसलिए महत्व रखती है कि लोकतंत्र दुनिया के सभी धर्म जाति संप्रदाय समूह तथा भाषा का मिश्रण है लोकतंत्र में उपरोक्त सभी प्रकार के लोगों को शासन में समान भागीदारी बनाया जाता है ताकि कभी भी जाति धर्म तथा संप्रदाय के नाम पर विभाजन की स्थिति उत्पन्न ना हो |

प्रश्न 16.
सत्ता की साझेदारी के अलग अलग तरीके क्या है ?

उत्तर – सत्ता की साझेदारी के दो तरीके हैं जो इस प्रकार से है – 

क. गठबंधन के माध्यम से :-  लोकतंत्र में सत्ता में साझेदारी बनाने के लिए अलग-अलग विचारधारा वाले राजनीति दल समझौता के माध्यम से गठबंधन करते हैं |

ख. समूह के माध्यम से :- लोकतंत्र में अनेकता में एकता की पहचान है जिसमें विभिन्न समूह के लोग आपसी समझौता से सत्ता में साझेदारी करते हैं |

सत्ता में साझेदारी की कार्यप्रणाली क्लास 10th का answer

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न 
प्रश्न 17.
राजनीतिक दल किस तरह से सत्ता में साझेदारी करते हैं ?

उत्तर – राजनैतिक दल सत्ता में साझेदारी आपसी समझौता के माध्यम से करते हैं जब किसी विधानसभा या लोकसभा के चुनाव में जब किसी राजनीतिक दल को सरकार बनाने के लिए निर्धारित बहुमत प्राप्त नहीं होती है तो  वैसी स्थिति में अलग अलग विचारधारा रहने के बावजूद कुछ दल आपसी समझौता करते हैं जो राजनीति के भाषा में गठबंधन कहलाता है इसी गठबंधन के माध्यम से राजनीतिक दलों द्वारा सत्ता में साझेदारी की जाती है |

प्रश्न 18.
गठबंधन की सरकार में सत्ता में साझेदारी कौन-कौन होते हैं ?

उत्तर – गठबंधन की सरकार में सत्ता की साझेदारी विभिन्न राजनीतिक दल ही ही करते हैं क्योंकि राजनीतिक दलों को ही चुनाव आयोग के द्वारा मान्यता दी जाती है जिसके आधार पर राजनैतिक दलों के द्वारा समझौते के माध्यम से गठबंधन तैयार किया जाता है गठबंधन बनाने के बाद जितने भी राजनीतिक दल इसमें भाग लेते हैं वह सामूहिक रूप से एक कार्यक्रम निर्धारित करते हैं जो एजेंडा कहलाते हैं इसी एजेंडा के द्वारा सत्ता में साझेदारी बनाकर सरकार का गठन करते हैं साथ ही साथ शासन व्यवस्था को भी संचालित करते हैं |

प्रश्न 19.
दबाव समूह किस तरह से सरकार को प्रभावित कर सत्ता में साझेदारी बनाते हैं ?

उत्तर – दबाव समूह सत्ता में साझेदारी प्रत्यक्ष रूप से ना बना कर अप्रत्यक्ष साझेदार  बनाने का प्रयास करते हैं इसी क्रम में विभिन्न वर्ग के लोग एक साथ मिलकर एक समूह का निर्माण करते हैं जो दबाव समूह कहलाता है जिसका उद्देश्य सरकार के कार्यकलाप ऊपर नजर रखना है कभी भी सरकार यदि जनता के हित में अनदेखी करती है तो दबाव समूह के द्वारा सरकार के विरोध में आंदोलन धरना प्रदर्शन तथा हड़ताल पर कदम उठाए जाते हैं इस तरह से दबाव समूह सत्ता में साझेदारी बनाकर सरकार को प्रभावित करने का प्रयास करती है |

प्रश्न 20.
जिला परिषद के तीन कार्यों को लिखें ?

उत्तर – जिला परिषद के निम्नलिखित तीन कार्य है, जो इस प्रकार से है –
. पंचायत समिति एवं  ग्राम पंचायत के बीच संबंध स्थापित करना |
. विभिन्न पंचायत समितियों द्वारा तैयार की गई योजनाओं को संतुलित करना |
.  शिक्षण संस्थाओं की स्थापना तथा उनका विकास करना |

प्रश्न 21.
नगर निगम की आय के प्रमुख साधनों को बताइए ?

उत्तर – नगर निगम अपने कार्यों के संचालन हेतु कई प्रकार से आय अर्जित  करता है नगर निगम कई प्रकार के कर लागता  है विभिन्न प्रकार के करों में मकान कर शौचालय कर  पशुओं पर कर छोटे वाहनों पर कर ठेला  रिक्शा आदि सभी कर प्रमुख है,, इन करो से प्राप्त आय की राशि इतनी कम होती है कि नगर निगम का कार्य इससे नहीं चल पाता जिसके चलते राज्य सरकार समय-समय पर आर्थिक अनुदान देकर नगर निगम के वार्षिक बजट की छाती पूर्ति करती है नगर निगम विभिन्न प्रकार के नीलामी के माध्यम से भी आय अर्जित करता है |

प्रश्न 22.
भारतीय संविधान की प्रमुख विशेषताओं का वर्णन करें ?

उत्तर – भारतीय संविधान की प्रमुख विशेषताएं इस प्रकार से है –
. भारतीय संविधान दुनिया की सबसे बड़ी संविधान है |
. भारतीय संविधान लचीला तथा कठोर है |
. भारतीय संविधान धर्मनिरपेक्ष राज्य की स्थापना करता है |
. भारतीय संविधान में समानता का अधिकार दिया गया है |
. भारतीय संविधान एक संघीय संविधान है |
. भारतीय संविधान लोक कल्याण के राज्यों का स्थापना करता है |
. भारतीय संविधान कोई संविधानो  का मिश्रण है |
. भारतीय संविधान राज्य के नीति निर्देशक तत्व की व्यवस्था करता है |
. भारतीय संविधान में मौलिक अधिकार दिए गए हैं |
. भारतीय संविधान में स्वतंत्रता के अधिकार दी गई है |
. भारतीय संविधान में अन्य देशों की अच्छाइयों को अपनाया गया है |

class 10th civics satta me sajhedari ki karyapranali question answer

प्रश्न 23.
नगर निगम के प्रमुख कार्यों का वर्णन करें ?

उतर – नगर निगम के प्रमुख कार्य इस प्रकार से है –
. नगर क्षेत्र की नालियां पेशओ खाना शौचालय आदि निर्माण करना एवं उसकी देखभाल करना |
. कूड़ा करकट तथा गंदगी की सफाई करना |
. पीने की पानी का प्रबंध करना |
. गोलियों पुलों एवं बगीचों की सफाई एवं निर्माण करना |
. मनुष्य तथा पशुओं के लिए चिकित्सा केंद्र की स्थापना करना एवं छुआछूत केंद्र की जैसी बीमारियों पर रोक लगाने का प्रयास करना |
. प्रारंभिक स्तरीय सरकारी विद्यालयों तथा पुस्तकालयों की स्थापना तथा व्यवस्था करना |
. विभिन्न कल्याण केंद्रों जैसे मात्रु  केंद्र शिशु केंद्र वृद्ध आश्रम की स्थापना एवं देखभाल करना |
. खतरनाक व्यापारो  की रोकथाम खतरनाक जानवरों तथा पागल कुत्ते को मारने का प्रबंध करना |
. दुग्ध शाला एवं डेयरी की स्थापना एवं प्रबंध करना |
. नगरो में बस चलवाना आग बुझाने का प्रबंध करना |
. जन्म मृत्यु की पंजीकरण का प्रबंध करना |

प्रश्न 24.
बिहार में ग्राम पंचायत के कार्य एवं शक्तियों का वर्णन करें ?

उत्तर – ग्राम पंचायत के कार्य एवं शक्ति निम्नलिखित इस प्रकार से है –
. पंचायत क्षेत्र के विकास के लिए वार्षिक भोजन तथा वार्षिक बजट तैयार करना |
. प्राकृतिक विपदा में सहायता करने का कार्य |
. सार्वजनिक संपत्ति से अतिक्रमण हटाना |
. सामुदायिक कार्य में सहयोग करना |

ग्राम पंचायत की शक्तियां :- ग्राम पंचायत की निम्नलिखित शक्तियां होती है जो इस प्रकार से है –
. संपत्ति अर्जित करने धारना करने और  उससे  निपटने की तथा उसकी संविदा करने की शक्ति
. करा रोपण ( वार्षिक कर ) जैसे :- जल कर,  स्वच्छता कर,मेलो , घटो  में प्रबंधन और वाहनों के निबंधन पर फीस तथा क्षेत्राधिकार में चलाएं व्यवसाय नियोजन पर कर |
. राज्य वित्त आयोग की अनुशंसा पर संचित निधि से सहायक अनुदान प्राप्त करने का अधिकार |

Class 10th Civics Subjective Notes – राजनितिक 
पाठ – 1लोकतंत्र में सत्ता की साझेदारी
पाठ – 2सत्ता में साझेदारी की कार्यप्रणाली
पाठ – 3लोकतंत्र में प्रतिस्पर्धा एवं संघर्ष
पाठ – 4लोकतंत्र की उपलब्धियाँ
पाठ – 5लोकतंत्र की चुनौतिया
Rate this post

Leave a Comment