Bihari ke dohe notes | Bseb Class 10 Non Hindi बिहारी के दोहे

bihari ke dohe notes, Bseb Class 10 Non Hindi बिहारी के दोहे, bseb 10th class non hindi note बिहारी के दोहे, Bihar Board Class 10 non Hindi Solutions Chapter 6 बिहारी के दोहे, Bihar Board Class 10 non Hindi बिहारी के दोहे की व्याख्या pdf, bihari ke dohe notes in hindi, बिहारी के दोहे प्रश्न उत्तर इन हिंदी

Bihar Board Class 10th Non Hindi Chapter 6 Bihari Ke Dohe – बिहारी के दोहे 

पाठ – 6
शीर्षक – बिहारी के दोहे
लेखक – बिहारी

1. दुर्जन के साथ रहने से अच्छी वुद्धि नहीं मिल सकती,, इसकी उपमा में कवी ने क्या कहा है ?

उत्तर – दुर्जन के साथ रहने से अच्छी बुद्धि नहीं मिल सकती’’ इसकी उपमा में कवी ने कहा है,, की जिसकी बुद्धि भ्रष्ट होती है,, वह हमेशा बुरी बातो के विषय में ही सोचता है,, उसका हर काम अमाननीय होता है,, दूषित आवरण के करण उसका हर काम दूषित ही होता है,, जैसे कपूर के पास हिंग रखने पर हिंग अपनी दुर्गन्ध का त्याग नहीं करता उसके स्वभाव या गंध में परिवर्तन नहीं आता है |

2. रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए :

क. नर की अरु ……….. ऊँचै होई ||

उत्तर – नल नीर की गति एकै करी जोभ जेतो निचे चलै तेतो

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Facebook Group Join Now

ख. जपमाला , छापै तिलक ………….. संचै राँचै रामू ||

उत्तर – सरै न एकौ कामू मन काचै नाचे तथा

ग. बड़े न हुजै ………….. गढये न जाए ||

उत्तर – गुणन बिन बिरह बड़ाई पाय कहत धतूरे सो कनक गहनों

घ. गिरघ सांस न लहू दुःख …………. दई सु कबुली ||

उत्तर – सुख साही ही ने भूल हुई दुई क्यों करती है |

Bseb Class 10 Non Hindi बिहारी के दोहे

3. गोपियों ने कृष्ण की मुरली क्यों छुपाई ?

उत्तर – गोपियों ने कृष्ण की मुरली इसलिए छुपाई क्योकि गोपियाँ कृष्ण से बात चीत करना चाहती थी,, और आनंद लेना चाहती,, अर्थात बातचीत के लोभ से गोपियों ने कृष्ण की मुरली छुपाई |

4. बिहारी किस काल के कवी थे ?

उत्तर – बिहारी रीती काल के कवी थे |

5. गुण नाम से भी ज्यादा बड़ा होता है,, कैसे ?

उत्तर – गुण नाम से भी ज्यादा बड़ा होता है,, इसका अर्थ व्यक्ति का पाने क्रम के आधार पर माँ – अपमान मिलता है,, जिस व्यक्ति का काम जितना लोक कल्याणकारी होता है,, लोग उसे उतना ही आदर की दृष्टि से देखते है,, लेकिन जिस व्यक्ति का काम बुरा होता है,, लोग उसे बहुत ही बुरा दृष्टि से देखते है |

6. कनक शब्दों  का प्रयोग किन – किन अर्थो में किया गया है ?

उत्तर – कनक शब्द का प्रयोग धतुरा तथा सोना के अर्थो में किया गया है। Jawan

बिहारी के दोहे नोट्स – bihari ke dohe notes in hindi

7. हिंग को कपूर के साथ रखने से सुगन्धित क्यों नहीं होता है ?

उत्तर – कपूर के पास हिंग रखने पर हिंग अपनी दुर्गन्ध का त्याग नहीं करता है,, उसके स्वभाव या गंध में परिवर्तन नहीं आता है,, इसलिए हिंग को कपूर के साथ रखने पर सुगन्धित नहीं होती है |

8. पर्यावाची शब्द लिखिए :

. भव             संसार,,     दुनिया
. बाधा           कष्ट,,       पीड़ा
. नर               मनुष्य,,    मानव
. तन               शरीर,,      बदल
. नीर             जल,,       पानी
. कनक          सोना,,      कंचन

S.N Class 10th Non Hindi Subjective Notes
पाठ – 2 ईदगाह
पाठ – 3 कर्मवीर
पाठ – 4 बलगोबिन भगत
पाठ – 5 हुंडरू का जल प्रताप
पाठ – 6 बिहारी के दोहे
पाठ – 7 ठेस
पाठ – 8 बच्चे की दुआ
पाठ – 9 अशोक का शस्त्र त्याग
पाठ – 10 इर्ष्या तू न गई मेरे मन से
पाठ – 11 कबीर के पद
पाठ – 12 विक्रमशिला
पाठ – 13 दीदी की डायरी
पाठ – 14 पीपल
पाठ – 15 दीनबंधु निराला
Rate this post

Leave a Comment