Jal aur jangal notes | Bseb Class 7 Science जल और जंगल

jal aur jangal, Bseb Class 7 Science जल और जंगल, Bihar Board Class 7 Science Solutions Chapter 1 जल और जंगल, जल और जंगल वर्ग 7 नोट्स, bihar board class 7 science solutions, bihar board class 7 science solution in hindi, Bihar 7th विज्ञान चैप्टर 1 जल और जंगल, bihar board class 7th science jal aur jangal question answer

Bihar Board Class 7th Science Chapter 1 Jal Aur Gangal– जल और जंगल

Chapter – 1 जल और जंगल

1. निम्नलिखित कथन सत्य है’’ अथावा असत्य ?

. वर्षा जल का मुख्य स्रोत है | ( सत्य )

. नदियों का जल खेतो में सिंचाई का एक मात्र संसाधन है | ( असत्य )

. जल की कमी की समस्या का सामना केवल ग्रामीण क्षेत्रो के निवासी करते है | ( असत्य )

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Facebook Group Join Now

2. रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए :

. भौमजल प्राप्त करने के लिए ( कुआ ) तथा ( हैण्डपम्पो ) का उपयोग होता है |

. जल की तीन अवस्थाएँ ( ठोस, द्रव ) और ( गैस ) है |

. भूमि की जल धारण करने वाली परत ( जलभर ) कहलाती है |

. वन शुद्ध करते है’’ ( हवा ) और ( जल ) को

. वन में क्षयामान पत्तियों और जंतु ( पोषक ) को समृद्ध करते है |

. सूक्ष्मजीवो द्वारा मृत पदार्थो पर क्रिया से ( ह्यूमस ) बनता है |

3. समझाइए की भौमजल की पुनः पूर्ति किस प्रकार होती है ?

उत्तर – भौमजल की पुनः पूर्ति वर्षा जल के स्राव द्वारा हो जाता है | वर्षा के अलावा कोई भी अन्य साधन नहीं है | जिससे भौमजल की पुनः पूर्ति हो सके | वर्षा का जल जमीं की दरारों से होकर भूमि के अंदर एकत्रित हो जाती है |

bseb class 7 science jal aur jangal notes in hindi

4. भौमजल स्तर के निचे गिरने के लिए उत्तरदायी कारको को समझाइये ?

उत्तर – भौमजल स्तर को निचे गिरने के लिए उत्तरदायी कारक है | उधोगो का बढ़ना रासायनिक उर्वरको के अधिक उपयोग के कारण भी अधिक सिंचाई आवश्यकता पड़ती है | जनसंख्या की वृद्धि से भी जल का उपयोग बढ़ा है | शौचालय से भी जल की खपत बढ़ी है | पहले जहाँ एक लोटा जल से ही व्यक्ति शौच से निपट लेता था | वही सेप्टि शौचालय में प्रति व्यक्ति कम से कम एक बड़ी बाल्टी जल की आवश्यकता पड़ती है | इस प्रकार के जल की खपत से भूमि की जल धीरे – धीरे समाप्त होते जा रहे है |

5. कम से कम जल का उपयोग करते हुए बगीचे लगाने तथा रख – रखाव के लिए आप क्या कदम उठाएंगे ?

उत्तर – किसी बगीचे का रख-रखाव हेतु बड़ी मात्रा में जल की आवश्यकता होती है | इसके लिए प्रायः भौमजल का उपयोग किया जाता है | वर्षा के रूप में जो जल हमें प्राप्त होता है | मेंढ़ बनाकर पानी को रोका जा सकता है | अपने बगीचे में जल का उपयोग मिट व्ययिता से करेंगे | यदि बहुत – बहुत वर्षा तक वर्षा हो तो हम भौमजल का उपयोग करेंगे लेकिन उस तरह नहीं जिस तरह गेंहू के खेत या चाय के बगानों में करते है | चूँकि बगीचे में पेड़ दूर – दूर रहते है | अतः घड़े में पानी भर कर हर पेड़ की जड़ के पास उसे गिराएंगे | पेड़ के चारो और मेड बना | देंगे ताकि बर्बाद न हो इस प्रकार हम भौमजल का सुदप्रयोग करेंगे | ध्यान रहे की पेड़ – पौधे भी भौमजल को निचे जाने से रोकते है |

Bseb Class 7 Science जल और जंगल

6. ऐसे सात उत्पादों के नाम बताए जो हम वनों से प्राप्त करते है ?

उत्तर – वनों से प्राप्त होने वाले उत्पाद निम्नलिखित है –
क. गोंद
ख. लकड़ी
ग. फल
घ. मसाले
ङ. औशिधि
च. पत्तल बनाने के लिए पत्ते
छ. चंदन की लकड़ी

7. वनों में कुछ भी व्यर्थ नहीं होता है’’ क्यों समझाइये ?

उत्तर – ह्यूमस की उपस्थित यह सुनिश्चित करती है | की मृत पादपो और जन्तुओ के पोषक तत्व मृदा में निर्मुक्त होते रहते है | वहां से ये पोषक तत्व पुनः सजीव पादपो के मुलो द्वारा अवशोषित कर लिए जाते है | मृत जंतु , गिद्धों , कौओ , गिदडो और कीटो का भोजन बन जाते है | इस प्रकार पोषक तत्वों का चक्र चलता रहा है | जिससे वन में कुछ भी व्यर्थ नहीं होता है |

जल और जंगल नोट्स 

8. अपघटक किसे कहते है’’ ये वन एवं जीवो की वृद्धि में किस प्रकार सहायक है ?

उत्तर – पादपो और जन्तुओ के मृत शरीर को ह्यूमस में परिवर्तित करने वाले सूक्ष्मजीव अपघटक कहलाते है | जीवाणु कवक तथा फफूंदी ये दो अपघटक के नाम हो सकते है | वनों में ये मृत पादपो और जन्तुओ के पोषक तत्व मृदा में निर्मुक्त करते रहते है | इसके बाद पोषक तत्व पुनः सजीव पादपो के मुलो द्वारा अवशोषित कर लिए जाते है | वन में कुछ भी व्यर्थ नहीं होता है | मृत जंतु , गिद्धों , कौओ , गिदडो और कीटो का भोजन बन जाते है |और इस प्रकार पोषक तत्व का चक्र चलता रहता है |

9. आँक्सीजन और कार्बन डाईआक्साइड का संतुलन बनाए रखने में वनों के योगदान को समझाइये ?

उत्तर – पादप प्रकाश संश्लेषण के प्रक्रम द्वारा कार्बन डाईआक्साइड को ग्रहण करते है | और आँक्सीजन निर्मुक्त करते है | इस प्रकार वे वायुमंडल में आँक्सीजन और कार्बन डाईआक्साइड के संतुलन को बनाए रखने में वे अपना योगदान देते है |

Leave a Comment

error: Content is protected !!